कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने भाजपा पर आरोप लगाया है कि कोरोना वायरस से उपजे असाधारण संकट के बीच भी वह नफरत की राजनीति कर रही है. उन्होंने यह भी दावा किया कि केंद्र सरकार के पास मौजूदा लॉकडाउन हटाने को लेकर कोई साफ रणनीति नहीं है. सोनिया गांधी ने यह बात वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये कांग्रेस कार्यसमिति की एक बैठक को संबोधित करते हुए कही. उनका कहना था, ‘यह एक ऐसी चीज है जिससे हर भारतीय को फिक्रमंद होना चाहिए. एक ऐसे वक्त में जब हमें एकजुट होकर कोरोना वायरस का मुकाबला करना चाहिए, सांप्रदायिक पूर्वाग्रह और नफरत की भाजपा की राजनीति जारी है. हमारी पार्टी को इस नुकसान की भरपाई करने के लिए काफी मेहनत करनी होगी.’

सोनिया गांधी ने सरकार पर कोरोना वायरस संकट से निपटने के लिए ठीक से काम न करने का भी आरोप लगाया. उनके मुताबिक उन्होंने प्रधानमंत्री से बार-बार कहा कि ‘टेस्टिंग, ट्रेसिंग और क्वारंटाइन’ का कोई विकल्प नहीं है, लेकिन टेस्टिंग की रफ्तार अभी भी धीमी है और किट की या तो कमी है या फिर उनकी गुणवत्ता घटिया है. उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के चलते समाज के सभी वर्गों, खासकर किसानों और मजदूरों को बहुत दिक्कत हो रही है. सोनिया गांधी का यह भी कहना था कि व्यापारिक गतिविधियां भी रुकी हुई हैं और सरकार को पता नहीं कि हालात को कैसे संभाला जाए.

भारत में कोरोना वायरस के मामलों में बीते 24 घंटे में 1486 की बढ़ोतरी हो गई है. इसके साथ ही कुल मामलों का आंकड़ा 20471 हो गया है. स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस से 49 मौतें दर्ज हुईं और इस तरह कुल मौतों की संख्या 652 हो गई है.