गुजरात के सूरत शर में लॉकडाउन से परेशान मजदूरों ने एक बार फिर प्रदर्शन किया है. न्यूज़ एजेंसी एएनआई के मुताबिक मंगलवार को प्रदर्शन के दौरान सैकड़ों की संख्या में मौजूद प्रवासी मजदूरों ने ‘डॉयमंड बोर्स’ नाम की कंपनी के सामने प्रदर्शन किया और अपने मूल निवास वापस भेजे जाने की मांग उठायी.

मजदूरों ने यह आरोप भी लगाया कि देशव्यापी लॉकडाउन के बावजूद कंपनी में उनसे खूब काम कराया जा रहा है. साथ ही उन्हें अच्छा खाना भी नहीं दिया जा रहा है. खबरों के मुताबिक कंपनी से नाराज कामगारों ने प्रदर्शन के दौरान उसके दफ्तर पर पथराव भी किया. एनडीटीवी की खबर के मुताबिक जब पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को समझाने की कोशिश की, तो उन्होंने पुलिस पर भी पथराव कर दिया.

बीते 20 दिनों के दौरान सूरत शहर में प्रवासी कामगारों और मजदूरों का यह तीसरा प्रदर्शन है. इससे पहले 14 अप्रैल को लॉकडाउन की समयसीमा तीन मई तक बढ़ाए जाने के बाद यहां मजदूरों ने घर भेजे जाने की मांग को लेकर प्रदर्शन किया था. इससे पहले बीते 10 अप्रैल को भी वेतन और घर वापस लौटने की मांग को लेकर सैकड़ों मजदूर पर सड़क पर उतर आए थे. इस दौरान हिंसक हुए मजदूरों ने तोड़फोड़ और आगजनी भी की थी. इस घटना के बाद सूरत पुलिस ने 80 लोगों को गिरफ्तार किया था.