लॉकडाउन के कारण देश के अलग-अलग हिस्सों में फंसे प्रवासी मजदूरों, तीर्थयात्रियों, पर्यटकों और छात्रों के लिए एक राहत भरी खबर आयी है. गृह मंत्रालय ने ऐसे लोगों को उनके घर भेजने के लिए नए दिशानिर्देश जारी किए हैं. नए दिशानिर्देशों के तहत अब फंसे हुए लोगों को एक राज्य से दूसरे राज्य में भेजा जा सकेगा.

गृह मंत्रालय के मुताबिक सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को अपने-अपने नोडल अधिकारी नियुक्त करने होंगे और एक मानक प्रोटोकॉल तैयार करना होगा. नोडल अधिकारी अपने राज्य में फंसे लोगों को पंजीकृत करेगा. नए दिशानिर्देशों के तहत एक राज्य से दूसरे राज्य में जाने के इच्छुक लोगों के लिए संबंधित राज्य सरकारों को आपस में बात करनी होगी. गृह मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि फंसे हुए लोगों को केवल सड़क मार्ग से ही उनके गंतव्य पर भेजा जाएगा.

लोगों को एक राज्य से दूसरे राज्य में भेजने से पहले उनकी जांच की जायेगी. जब ये लोग अपने गंतव्य पर पहुंच जाएंगे तो स्थानीय स्वास्थ्य अधिकारियों के जरिए उन्हें क्वारंटीन किया जाएगा. साथ ही इन सभी लोगों को अपने मोबाइल फोन में आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा.