कोरोना वायरस से बचाव और इलाज के लिए मोदी सरकार लगातार लोगों से आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करने की अपील कर रही है. सरकारी कर्मचारियों के लिए यह ऐप अनिवार्य भी कर दी गयी है. लेकिन आरोग्य सेतु ऐप पर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सवाल खड़े किए हैं. उन्होंने कहा है कि यह ऐप डेटा सुरक्षा और गोपनीयता संबंधी चिंताएं बढ़ाती है.

राहुल गांधी ने शुक्रवार को एक ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने लिखा, ‘आरोग्य सेतु ऐप एक अत्याधुनिक सर्विलांस सिस्टम है, जिसे प्राइवेट ऑपरेटर ने बनाया है. साथ ही इसमें कोई संस्थागत निगरानी नहीं है, इससे डेटा सुरक्षा और प्राइवेसी को लेकर गंभीर चिंताएं खड़ी हो रही हैं. तकनीक हमें सुरक्षित रहने में मदद कर सकती है, लेकिन डर का लाभ उठाकर लोगों को उनकी सहमति के बिना ट्रैक नहीं किया जाना चाहिए.’

राहुल गांधी के इस ट्वीट का जवाब देते हुए कानून और न्याय मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने भी कुछ ट्वीट किये हैं. उन्होंने लिखा है कि आरोग्य सेतु की सराहना पूरी दुनिया में हो रही है. इस एप की निगरानी की जिम्मेदारी किसी निजी कंपनी के हाथ में नहीं दी गई है. रविशंकर प्रसाद ने आगे लिखा, ‘आरोग्य सेतु एक सशक्त साथी है, जो लोगों को बचाता है. इसका डेटा सुरक्षा स्ट्रक्चर बहुत मजबूत है. जिन लोगों ने अपना पूरा जीवन निगरानी में गुजारा हो, वो नहीं जान सकते कि तकनीकी का अच्छे के लिए इस्तेमाल कैसे किया जा सकता है.’