कश्मीर में सुरक्षा बलों को एक बड़ी कामयाबी मिली है. एक मुठभेड़ में उन्होंने हिजबुल मुजाहिदीन के शीर्ष कमांडर रियाज नाइकू को मार गिराया है. यह मुठभेड़ पुलवामा जिले में हुई. रियाज नाइकू के साथ उसके दो साथी भी मारे गए. एक खुफिया सूचना के आधार पर आज ही पुलवामा के बेगपुरा गांव में एक अभियान के दौरान सुरक्षा बलों ने उसे घेर लिया था. यह ऑपरेशन कितना अहम था इसका अंदाजा इससे लगता है कि खुद जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह इसकी कमान संभाले हुए थे.

रियाज नाइकू कश्मीर में हिजबुल मुजाहिदीन का नेतृत्व कर रहा था. 2016 में बुरहान वानी की सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में मौत के बाद उसने संगठन की कमान संभाली थी. उसे हिजबुल में कुल आठ साल हुए थे. सरकार ने उस पर 12 लाख रु का ईनाम रखा हुआ था.

इससे पहले रियाज नाइकू कई बार सुरक्षा बलों को चकमा दे चुका था. वह पाकिस्तान स्थित इस संगठन के मुखिया सैयद सलाहुद्दीन का करीबी माना जाता था. सलाहुद्दीन को अमेरिका 2017 में ही वैश्विक आतंकी घोषित कर चुका है.