महाराष्ट्र में 24 घंटे में कोरोना वायरस के 1089 नए मामले सामने आये, 37 की मौत

महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के 1089 नए मामले सामने आए हैं. यहां पर मरीजों की संख्या 19063 हो गई है. पिछले 24 घंटे में 37 लोगों की मौत हुई है. महाराष्ट्र में कोरोना से अब तक 731 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं मुंबई में कोरोना के 12142 मामले हो गए हैं और 462 लोगों की जान जा चुकी है. पिछले 24 घंटे में मुंबई में 748 नए केस आए हैं और 25 लोगों की मौत हुई है. शुक्रवार को मुंबई के धारावी में कोरोना वायरस के 25 नए मामले सामने आए. इस दौरान यहां 5 लोगों की मौत भी हुई है. धारावी में अब मरीजों की कुल संख्या 808 हो गई है और अब तक कुल 26 लोगों की मौत हुई है.

एक से 15 जुलाई के बीच सीबीएसई की बोर्ड परीक्षाएं होंगी

सीबीएसई बोर्ड परीक्षाओं में शामिल होने वाले देशभर के लाखों छात्र लंबे समय से परीक्षा की तारीखों का इंतजार कर रहे हैं. लेकिन अब इनका इंतजार खत्म हो गया है. सीबीएसई की 10वीं और 12वीं क्लास की बोर्ड परीक्षाओं की तारीखों की घोषणा हो गई है. 10वीं और 12वीं क्लास की बोर्ड परीक्षाएं एक जुलाई से 15 जुलाई के बीच आयोजित की जाएंगी. मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखर‍ियाल ‘न‍िशंक’ ने एक ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी है.

मुंबई में कोरोनावायरस के बढ़ते मामलों के मद्देनजर बीएमसी के कमिश्नर को हटाया गया

मुंबई में कोरोनावायरस के लगातार बढ़ते मामलों को देखते हुए बृहन्मुंबई महानगर पालिका (बीएमसी) के कमिश्नर प्रवीण परदेसी को पद से हटा दिया गया है. उन्हें शहरी विकास विभाग में अतिरिक्त मुख्य सचिव बनाया गया है. उनकी जगह इकबाल चहल को बीएमसी का कमिश्नर नियुक्त किया गया है. चहल फिलहाल शहरी विकास विभाग के मुख्य सचिव के पद पर कार्यरत थे.

सरकार की सलाह - कोरोना वायरस के साथ जीना और ऐहतियात को जीवन शैली का हिस्सा बनाना सीखना होगा

केंद्र सरकार ने कहा है कि लोगों को कोरोना वायरस के साथ जीना सीखना होगा और ऐहतियाती कदमों को अपनी जीवन शैली का हिस्सा बनाना होगा. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय में संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने एक संवाददाता सम्मेलन में यह बात कही. उन्होंने आगे कहा कि देश में कोविड-19 मरीजों की संख्या दोगुने होने का समय पहले के मुकाबले कम हुआ है. उन्होंने बताया कि दो दिन पहले तक औसतन 12 दिन में संक्रमित लोगों की संख्या दोगुनी हो रही थी लेकिन आज यह औसत 10 दिन का है. लेकिन साथ ही अग्रवाल ने इस बात पर जोर दिया कि इन दिनों ‘क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए’ का यदि कड़ाई से पालन किया गया, तो कोविड-19 के मामलों को चरम पर पहुंचने से रोका जा सकता है.

सरकारों को शराब की होम डिलिवरी पर विचार करना चाहिए : सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने लॉकडाउन के दौरान शराब की बिक्री शुरू किए जाने पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है. शीर्ष अदालत ने कहा कि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो, इसके लिए राज्य सरकारों को शराब की होम डिलिवरी पर विचार करना चाहिए. सुप्रीम कोर्ट ने यह टिप्पणी शराब की दुकानें खोले जाने के खिलाफ दायर एक याचिका पर की. याचिका में कहा गया था कि इस फैसले से कोरोना वायरस के मद्देनजर जारी सोशल डिस्टेंसिंग के दिशा-निर्देश की धज्जियां उड़ रही हैं.

करीब डेढ़ महीने के लॉकडाउन के बाद सरकार ने कुछ ही दिन पहले शराब की दुकानें खोलने की छूट दी थी. लेकिन कई जगह दुकानों पर भारी भीड़ की खबरें आईं. दिल्ली में तो कुछ दुकानों को इसके चलते जल्दी ही बंद करना पड़ा.

देश और दुनिया की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें.