1- हुनर उम्र का मोहताज नहीं होता, यह महाराष्ट्र के रहने वाले 18 साल के अर्जुन देशपांडे ने साबित किया है. आज वे और उनकी कंपनी ‘जेनरिक आधार’ चर्चा में बनी हुई है. जाने-माने उद्योगपति रतन टाटा ने अर्जुन देशपांडे की दो साल पहले बनी कंपनी में व्यक्तिगत तौर पर निवेश किया है. बीबीसी पर कमलेश की रिपोर्ट.

अर्जुन देशपांडे: टाटा के साथ कारोबार करने वाले 18 साल के कारोबारी

2- कई लोगों का मानना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस संकट के इस दौर में राष्ट्र के नाम जो संदेश दिए हैं वे मुख्यतः मध्य वर्ग या इलीट तबके को संबोधित रहे हैं. इन लोगों के मुताबिक प्रधानमंत्री के इन संदेशों में करोड़ों गरीबों के प्रति हमदर्दी न के बराबर दिखती है. तो क्या नरेंद्र मोदी अपना राजनीतिक अंदाज भूल रहे हैं? द प्रिंट हिंदी पर शेखर गुप्ता की टिप्पणी

वंदे भारत बनाम भारत के बंदे: क्या नरेंद्र मोदी जनता में अपनी सियासी पैठ इतनी जल्दी गंवा रहे हैं

3- सात मई को विशाखापत्तनम स्थित एलजी पॉलीमर्स के एक कैमिकल प्लांट से हुए गैस के रिसाव के चलते 11 लोगों की मौत हो गई. मामले में कंपनी से जवाब मांगा गया है और जांच जारी है. डाउन टू अर्थ पर सौंदर्यम रामानाथन, दिग्विजय सिंह बिष्ट और निवित कुमार यादव की एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि इस हादसे की वजह लापरवाही है.

विशाखापट्टनम गैस त्रासदी: प्लांट खोलने की हड़बड़ी में मेंटेनेंस के नियमों की अनदेखी हुई

4- दिल्ली के बॉयज लाकर रूम मामले ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया है. लड़कों के इस सीक्रेट ग्रुप में लड़कियों को लेकर हो रही बातों के सामने आने के बाद कई तरह के सवाल उठ रहे हैं. द वायर हिंदी पर अपने इस लेख में अफशां अंजुम का मानना है कि इस दुनिया में बेटियों की परवरिश मुश्किल है, लेकिन उससे भी ज़्यादा चुनौतीपूर्ण बेटों की परवरिश करना है.

‘बॉयज़ लॉकर रूम’ के ताले खुलें, इसके लिए बात करना ज़रूरी है

5-भारत के गुजरात में मौजूद जामनगर का पोलैंड से एक खास रिश्ता है. यहां के राजा दिग्विजय सिंहजी के नाम पर पोलैंड में कई जगहों के नाम हैं. दिग्विजय सिंहजी का एक कनेक्शन क्रिकेट की रणजी ट्रॉफी से भी है. डॉयचे वेले हिंदी पर ऋषभ कुमार शर्मा की रिपोर्ट.

जामनगर के राजा के नाम पर पोलैंड में क्यों हैं पार्क और गलियां