कोरोना वायरस संकट के बीच केंद्र सरकार ने साफ किया है कि किसी भी केंद्रीय कर्मचारी के वेतन में कटौती का कोई प्रस्ताव उसके पास नहीं आया है. आज वित्त मंत्रालय ने एक ट्वीट कर यह जानकारी दी. वित्त मंत्रालय ने ट्वीट में लिखा, ‘केंद्र सरकार के कर्मचारियों की किसी भी श्रेणी के मौजूदा वेतन में कटौती के लिए सरकार के विचार के लिए कोई प्रस्ताव नहीं है. मीडिया के कुछ वर्गों की रिपोर्टें झूठी हैं और जिनका कोई आधार नहीं है.’

केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने भी कहा है कि केंद्र सरकार के कर्मियों के वेतन में किसी भी तरह की कटौती का प्रस्ताव विचाराधीन नहीं है. जितेंद्र सिंह ने एक ट्वीट कर कहा, ‘कृपया मीडिया के एक सेक्शन में प्रसारित हो रही फेक न्यूज़ को नजरअंदाज करें. सरकार द्वारा अपने कर्मचारियों के वेतन में कटौती का कोई प्रस्ताव नहीं है.’

बीते महीने केंद्र सरकार ने अपने 50 लाख कर्मचारियों और 61 लाख पेंशन भोगियों के बढ़े हुए महंगाई भत्ते के भुगतान पर रोक लगा दी थी. सरकार कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिए जरूरी संसाधन जुटाने को लेकर अपने खर्च में कटौती कर रही है, इसी के तहत बढ़ा हुआ महंगाई भत्ता नहीं देने का निर्णय किया गया. सरकार के इस फैसले के बाद से केंद्रीय कर्मियों के वेतन में भी जल्द कटौती किए जाने की अफवाह फैली थी.