प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ लड़ाई के मुद्दे पर सोमवार को एक बार फिर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बात की. मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में पीएम मोदी ने राज्यों की तारीफ करते हुए कहा कि कोरोना संकट से निपटने के लिए भारत के उठाए गए कदमों की चारों ओर तारीफ हो रही है. इसमें राज्यों ने अपनी पूरी जिम्मेदारी निभाई है.

खबरों के मुताबिक प्रधानमंत्री ने आगे रणनीति पर बात करते हुए कहा, ‘लॉकडाउन में ढील के बाद हमारे सामने सबसे बड़ी चुनौती है कि गांवों में कोरोना वायरस का संकट न पहुंचे. हमें यह सुनिश्चित करना ही होगा.’ नरेंद्र मोदी ने ‘दो गज की दूरी’ की बात दोहराते हुए कहा कि कोरोना से लड़ाई में सोशल डिस्टेंसिंग ही सबसे कारगर हथियार है. दो गज की दूरी कम हुई तो संकट बढ़ेगा.

पीएम मोदी ने सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से यह भी कहा कि सभी मुख्यमंत्रियों के सुझावों के बाद ही आगे के दिशानिर्देश निर्धारित होंगे. बताया जाता है कि पांच राज्यों ने प्रधानमंत्री से लॉकडाउन को आगे बढ़ाने की मांग की है. ये राज्य पंजाब, महाराष्ट्र, तेलंगाना, बंगाल और बिहार हैं. हालांकि, कोरोना वायरस से दूसरा सबसे ज्यादा पीड़ित राज्य गुजरात लॉकडाउन को 17 मई के बाद आगे बढ़ाने के पक्ष में नहीं है. बैठक के दौरान दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि कंटेनमेंट जोन को छोड़कर पूरी दिल्ली में आर्थिक गतिविधियां खोल दी जानी चाहिए.