महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे विधान परिषद के सदस्य बन गए हैं. गुरूवार को उद्धव ठाकरे सहित सभी नौ उम्मीदवारों को निर्विरोध विधान परिषद का सदस्य चुना गया. नौ सीटों के लिए हुए इस चुनाव में 13 उम्मीदवार मैदान में थे, लेकिन आज सुबह चार उम्मीदवारों ने अपने नामांकन वापस ले लिए, इस वजह से आयोग को मतदान नहीं कराना पड़ा.

विधान परिषद के नवनिर्वाचित नौ सदस्यों में भाजपा से चार, शिवसेना और एनसीपी से दो-दो और एक सदस्य कांग्रेस का है. चुने गए सदस्यों में शिवसेना से उद्धव ठाकरे और डॉ नीलम गोरहे, भाजपा से गोपीचंद पडलकर, प्रवीण दटके, रणजीत सिंह पाटिल और रमेश काशिराम कराड शामिल हैं. इसके आलावा एनसीपी से शशिकांत शिंदे, अमोल मिटकरी और कांग्रेस से राजेश राठोड़ विधान परिषद पहुंचे हैं.

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने 28 नवंबर 2019 को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी. 28 मई 2020 को उनके कार्यकाल के छह महीने पूरे हो रहे हैं. इससे पहले ही उन्हें विधानसभा या विधान परिषद में किसी एक सदन का सदस्य बनना जरूरी था, वरना उन्हें 28 मई को मुख्यमंत्री की कुर्सी छोड़नी पड़ती.