अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में भारत की मदद के लिए अमेरिका उसे वेंटिलेटर्स देगा. उनका यह भी कहना था कि इस लड़ाई में अमेरिका, भारत और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ खड़ा है. डोनाल्ड ट्रंप के मुताबिक कोरोना वायरस के खिलाफ वैक्सीन बनाने की दिशा में भी दोनों देश एक-दूसरे का सहयोग कर रहे हैं. उनका कहना था कि अमेरिका में भारत से ताल्लुक रखने वाले कई शानदार वैज्ञानिक और शोधकर्ता हैं जो इस दिशा में काम कर रहे हैं.

डोनाल्ड ट्रंप ने वैक्सीन खोजने और इसके उत्पादन के लिए एक टीम की घोषणा भी की है. वैक्सीन लाने की व्हाइट हाउस की मुहिम को ऑपरेशन वार्प स्पीड नाम दिया गया है. माना जा रहा है कि इस साल के आखिर तक एक प्रायोगिक वैक्सीन तैयार हो सकती है. बाकी देशों में भी वैक्सीन की दिशा में तेजी से काम हो रहा है.

अमेरिका पर कोरोना वायरस की सबसे ज्यादा मार पड़ी है. जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के आंकड़ों के मुताबिक यहां अब तक वायरस संक्रमण के 14 लाख से भी ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं जबकि संक्रमण से मरने वालों की संख्या 87 हजार से भी अधिक हो गई है.