प्रवासी श्रमिकों के लिए कांग्रेस ने जिन बसों की व्यवस्था की थी, वे बैरंग ही लौट गई हैं. ये पांच सौ बसें बीते क़रीब 33 घंटे से राजस्थान-उत्तर प्रदेश सीमा पर खड़ी थीं. लेकिन उत्तर प्रदेश सरकार ने इन बसों को अपनी सीमा में प्रवेश की अनुमति नहीं दी. अब बुधवार शाम को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के आदेश के बाद इन बसों को लौटा दिया गया है.

इससे पहले प्रियंका गांधी ने उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार पर तंज कसते हुए कहा था कि यदि भारतीय जनता पार्टी चाहे तो इन बसों पर अपने बैनर लगा दे, लेकिन श्रमिकों को लाने से न रोकें.

इन बसों की व्यवस्था को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार और कांग्रेस के बीच भारी विवाद की स्थिति बन गई थी. इससे पहले इन बसों को उत्तर प्रदेश में एंट्री न मिलने पर कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष अजय कुमार लल्लू अपने सहयोगियों के साथ यूपी-राजस्थान सीमा पर प्रदर्शन पर बैठ गए थे. इसके बाद पुलिस ने अजय कुमार लल्लू के ख़िलाफ़ महामारी एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया था.

पुलिस की एफआईआर के मुताबिक प्रदर्शन करते हुए अजय लल्लू और अन्य कांग्रेस नेताओं ने मास्क नहीं पहना हुआ था. अजय कुमार लल्लू के खिलाफ उत्तर प्रदेश पुलिस ने धोखाधड़ी का एक केस भी दर्ज किया था. ये केस कांग्रेस की बसों की सूची में अनियमितताओं से संबंधित है.