लखनऊ पुलिस द्वारा धोखाधड़ी और फर्जी दस्तावेज के मामले में गिरफ्तार किये गये उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. कांग्रेस प्रवक्ता अंशु अवस्थी ने मीडिया को बताया कि बुधवार देर रात अजय कुमार लल्लू को आगरा से लखनऊ लाया गया और उनका चिकित्सीय परीक्षण कराया गया. इसके बाद बुधवार देर रात ही उन्हें लखनऊ में मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया गया और 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया. बुधवार रात से अजय कुमार अस्थायी जेल में थे, लेकिन आज कोरोना वायरस की रिपोर्ट में संक्रमण की पुष्टि नहीं होने के बाद उन्हें लखनऊ जेल भेज दिया गया.

अजय कुमार लल्लू को बुधवार को दो मामलों में गिरफ्तार किया गया था. उनके खिलाफ पहला मामला आगरा के फतेहपुर सीकरी थाने में भारतीय दंड संहिता एवं महामारी अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत दर्ज किया गया था. आगरा पुलिस के मुताबिक यूपी में बसें लाने की इजाजत न मिलने के विरोध में प्रदर्शन करते हुए यूपी कांग्रेस अध्यक्ष ने मास्क नहीं पहना हुआ था. हालांकि, इस मामले में आगरा की एक अदालत ने बुधवार को ही उन्हें अंतरिम जमानत दे दी थी और 20 हजार रूपये के निजी मुचलके पर रिहा कर दिया.

बुधवार शाम को इसके तुरंत बाद अजय कुमार लल्लू को लखनऊ के हजरत गंज थाने की पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था. दरअसल, मंगलवार को हजरत गंज थाने में राज्य कांग्रेस अध्यक्ष के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया गया था. ये मामला कांग्रेस की बसों की सूची में अनियमितताएं मिलने से संबंधित था. अजय कुमार को इसी मामले में मजिस्ट्रेट के समक्ष प्रस्तुत किया गया और 14 दिन की न्यायिक हिरासत में लखनऊ जेल भेज दिया गया.