अगले 10 दिन के दौरान भारतीय रेलवे 2600 विशेष ट्रेनों के जरिये करीब 36 लाख यात्रियों को उनके गंतव्य तक पहुंचाएगा. रेलवे बोर्ड के चेयरमैन विनोद कुमार यादव ने आज एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में यह जानकारी दी. उन्होंने यह भी कहा कि अभी फिलहाल रोजाना 200 ट्रेनें चल रही हैं और एक जून से 200 अतिरिक्त ट्रेनें चलाने की भी तैयारी है. उनके मुताबिक प्रवासी मजदूरों को उनके घर पहुंचाने के लिए एक मई से शुरू की गई श्रमिक स्पेशन ट्रेनें तब तक जारी रहेंगी जब तक उनकी जरूरत खत्म नहीं होती. विनोद कुमार यादव का यह भी कहना था कि लॉकडाउन में छूट के बाद अब तक रेलवे 35 लाख से भी ज्यादा लोगों को उनकी मंजिल तक पहुंचा चुका है.

उधर,पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव ने आज रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष को एक पत्र लिखा है. इसमें उनका कहना है कि इस समय प्रशासन चक्रवाती तूफान अंपन की वजह से राहत और पुनर्वास के कार्यों में व्यस्त है, इसलिए उनके लिए अगले कुछ दिनों तक स्पेशल ट्रेनों को रिसीव करना संभव नहीं होगा. उन्होंने अनुरोध किया है कि 26 मई तक राज्य में कोई भी ट्रेन न भेजी जाए. विनोद कुमार यादव ने यह सूचना मिलने की पुष्टि की है.