देश में घरेलू विमान सेवाओं की बहाली का पहला दिन कई यात्रियों के लिए राहत के बजाय मुश्किलें लेकर आया. ऐसा इसलिए हुआ कि बिना किसी जानकारी के दर्जनों उड़ानें रद्द हो गईं. इसके चलते एयरपोर्ट पहुंचे यात्री काफी परेशान रहे. उन्हें इस बारे में एयरपोर्ट आकर ही पता चला. खबरों के मुताबिक दिल्ली से पोर्ट ब्लेअर, हैदराबाद, मुंबई और इंदौर की 82 उड़ानें रद्द हो गईं. उधर, मुंबई से गुवाहाटी जाने वाली उड़ान के साथ भी ऐसा ही हुआ. इसकी वजह राज्यों की ओर से कम विमानों की आवाजाही की मंजूरी बताई जा रही है.

कोरोना वायरस संकट के चलते दो महीने से बंद घरेलू विमान सेवाएं आज से बहाल हुई हैं. इससे बर्बादी के कगार पर पहुंच चुके उड्डयन क्षेत्र को कुछ राहत मिलने की उम्मीद है. यात्री फेस मास्क और शील्ड में नजर आए. चालक दल के सदस्यों ने प्रोटेक्टिव गाउन भी पहना हुआ था. हालांकि इन यात्रियों को क्वारंटीन होना है या नहीं, इसे लेकर असमंजस बना हुआ है. केंद्र का कहना है कि छोटी उड़ानों के लिए यह जरूरी नहीं होगा. उधर, कई राज्य कह रहे हैं कि यह जरूरी है. इन राज्यों ने इसे लेकर अपने-अपने दिशा-निर्देश जारी किए हैं.

केंद्र सरकार ने सभी यात्रियों से आरोग्य सेतु एप डाउनलोड करने के लिए कहा है. उसने राज्यों से इन यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग करने को भी कहा है. यात्रियों को उड़ान के प्रस्थान से दो घंटे पहले एयरपोर्ट पहुंचने और उचित दूरी बरतने का निर्देश दिया गया है. अगले तीन महीने तक दूरी के हिसाब से टिकटों के मूल्य के दो हजार रु से 18 हजार 600 रु तक सात स्तर तय कर दिए गए हैं. पहले बीच की सीट खाली छोड़ने की योजना थी, लेकिन टिकटों के मूल्य की सीमा तय कर दिए जाने के चलते यह रद्द कर दी गई.