कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने एक बार फिर कोरोना वायरस संकट के प्रबंधन को लेकर मोदी सरकार पर हमला बोला है. वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये हुई एक प्रेस वार्ता में उन्होंने कहा कि भारत दुनिया का अकेला ऐसा देश है जहां कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ने के बावजूद लॉकडाउन हटाया जा रहा है. राहुल गांधी का कहना था, ‘लॉकडाउन का मकसद फेल हो चुका है, देश इसके नतीजे भुगत रहा है.’ उन्होंने आगे दावा किया कि चार चरण के लॉकडाउन के बाद भी वे नतीजे नहीं मिले जिनकी उम्मीद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कर रहे थे. राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री पहले फ्रंट फुट पर खेल रहे थे, लेकिन लॉकडाउन फेल हुआ तो वे बैकफुट पर चले गए. कांग्रेस नेता का कहना था, ‘उन्हें फिर से फ्रंट फुट पर आना चाहिए.’

राहुल गांधी ने सरकार द्वारा घोषित आर्थिक पैकेज को भी नाकाफी बताया. उनका कहना था कि लोगों के हाथों में पैसा पहुंचना चाहिए. राहुल गांधी ने कहा कि आम लोगों और इंडस्ट्री को आर्थिक मदद नहीं मिली तो इसके नतीजे खतरनाक होंगे. उन्होंने केंद्र को राज्यों की भी मदद करने की भी नसीहत दी. लॉकडाउन के बीते दो महीने के दौरान राहुल गांधी की यह चौथी प्रेस कॉन्फ्रेंस थी.