प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज ‘मन की बात’ रेडियो कार्यक्रम के जरिये देशवासियों को संबोधित किया. उन्होंने लोगों को चेताते हुए कहा कि कोरोना वायरस महामारी के चलते लगाए गए देशव्यापी लॉकडाउन में अब बड़ी ढील दे दी गयी है इसलिए सभी को ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत है. प्रधानमंत्री का कहना था, ‘पिछली बार जब मैंने पिछली बार आपसे मन की बात की थी, तब यात्री ट्रेनें बंद थीं, बसें बंद थीं, हवाई सेवा बंद थी. इस बार, बहुत कुछ खुल चुका है. श्रमिक स्पेशल ट्रेन चल रही हैं, अन्य स्पेशल ट्रेनें भी शुरू हो गई हैं. तमाम सावधानियों के साथ, हवाई जहाज उड़ने लगे हैं, धीरे-धीरे उद्योग भी चलना शुरू हुआ है, यानी अर्थव्यवस्था का एक बड़ा हिस्सा अब चल पड़ा है, खुल गया है. ऐसे में हमें और ज्यादा सतर्क रहने की आवश्यकता है.’

पीएम मोदी ने आगे कहा कि भारत की जनसंख्या ज़्यादातर देशों से कई गुना ज्यादा है, फिर भी यहां कोरोना वायरस उतनी तेजी से नहीं फैल पाया जितना दुनिया के अन्य देशों में फैला. उनके मुताबिक ‘कोरोना वायरस से होने वाली मृत्यु दर भी हमारे देश में काफी कम है. जो नुकसान हुआ है, उसका दु:ख हम सबको है, लेकिन जो कुछ भी हम बचा पाएं हैं, वो निश्चित तौर पर देश की सामूहिक संकल्पशक्ति का ही परिणाम है.’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन के दौरान मजदूरों का भी जिक्र किया. उन्होंने कहा, ‘हमारे देश में कोई वर्ग ऐसा नहीं है जो इस समय कठिनाई में न हो, लेकिन इस संकट की सबसे बड़ी चोट अगर किसी पर पड़ी है तो वो हमारे गरीब, मजदूर, श्रमिक वर्ग पर पड़ी है. उनकी तकलीफ, उनका दर्द, उनकी पीड़ा शब्दों में नहीं कही जा सकती है.’