एक अश्वेत व्यक्ति की पुलिस हिरासत में मौत के बाद पूरे अमेरिका में उबाल जारी है. राजधानी वाशिंगटन सहित सभी बड़े शहरों में लोग सड़कों पर हैं. इस बीच राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चेतावनी दी है कि अगर प्रदर्शनकारी नहीं माने तो हालात काबू करने के लिए सेना बुलाई जा सकती है. व्हाइट हाउस में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में उनका कहना था, ‘अगर गवर्नर कार्रवाई करने में असफल रहते हैं तो मैं हजारों अमेरिकी सैनिकों को तैनात करूंगा और समस्या झट से हल कर दूंगा.’

लोगों की नाराजगी एक वीडियो क्लिप के वायरल होने के बाद सामने आई. इसमें एक पुलिस अधिकारी जॉर्ज फ्लॉयड नाम के एक निहत्थे और अश्वेत व्यक्ति की गर्दन पर घुटना टेककर उसे दबाता दिखता है. इसके कुछ ही मिनटों बाद 46 साल के जॉर्ज फ्लॉयड की मौत हो गई थी. यह मिनेपॉलिस की घटना है. बढ़ती हिंसा और आगजनी के बाद वाशिंगटन, लॉस एंजलस और ह्यूस्टन सहित अमेरिका के कई बड़े शहरों में रात का कर्फ्यू लगा दिया गया है.

हालात कितने खराब हैं इसका अंदाजा इससे भी लगाया जा सकता है कि जब डोनाल्ड ट्रंप मीडिया से बातचीत कर रहे थे तो उसी दौरान व्हाइट हाउस के पास जमा प्रदर्शनकारियों पर पुलिस आंसूगैस छोड़ रही थी. बिगड़ते सुरक्षा हालात को देखते हुए बीते शुक्रवार को राष्ट्रपति को कुछ समय के लिए एक भूमिगत बंकर में भी ले जाना पड़ा था.