भारत और चीन के बीच सीमा पर तनाव कम करने के लिए डिविजनल कमांडर स्तर की बैठक हुई है. इस बैठक में मेजर जनरल रैंक के अधिकारी शामिल हुए हैं. खबरों के मुताबिक दोनों देशों के बीच इस स्तर की ये तीसरी बैठक है. इससे पहले ब्रिगेडियर और कर्नल रैंक के अधिकारियों की कई मौके पर बातचीत हुई थी. दोनों देशों के बीच तनाव कम करने के लिए सेना के साथ-साथ राजनयिक स्तर पर भी बातचीत चल रही है.

भारत और चीन के बीच करीब साढ़े तीन हजार किलोमीटर लंबी सीमा है. बीते कुछ समय से पूर्वी लद्दाख और उत्तरी सिक्किम में दोनों देशों की सेनाओं का जमावड़ा बढ़ा है. सैनिकों के बीच आपसी झड़पें भी हुई हैं. सैटेलाइट तस्वीरों से पता चला है कि चीन लद्दाख के पास एक एयरबेस का विस्तार कर रहा है. तस्वीरों से यह भी खुलासा होता है कि चीन ने वहां लड़ाकू विमान भी तैनात किए हैं. बीते दिनों खबर आई थी कि चीनी सेना के लड़ाकू विमान भारतीय सीमा के पास लगातार उड़ान भर रहे हैं.

ताजा तनाव के मद्देनजर बीते हफ्ते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और तीनों सेना प्रमुखों से मुलाकात की थी. इससे पहले प्रधानमंत्री ने विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला के साथ भी एक अलग बैठक की थी. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी तीनों सेना प्रमुखों से मुलाकात की थी.