सुप्रीम कोर्ट ने आईएनएक्स मीडिया मनी लॉड्रिंग मामले में पूर्व वित्त मंंत्री पी चिदंबरम को बड़ी राहत दी है. अदालत ने चिदंबरम की जमानत के खिलाफ दाखिल सीबीआई की पुनर्विचार याचिका को खारिज कर दिया है. सीबीआई की याचिका पर जस्टिस आर भानुमति की पीठ ने कहा है कि जमानत देने के फैसले में अदालत से कोई गलती नहीं हुई है. इससे पहले इसी मामले में ईडी ने बीते मंगलवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री चिदंबरम और उनके बटे कार्ति चिदंबरम के खिलाफ चार्जशीट दायर की थी.

पी चिदंबरम को बीते साल 21 अगस्त को सीबीआई ने आईएनएक्स मीडिया भ्रष्टाचार मामले में गिरफ्तार किया था. इसके बाद ईडी ने 16 अक्टूबर को उन्हें धनशोधन से जुड़े एक मामले में गिरफ्तार किया था. इसके छह दिन बाद 22 अक्टूबर को उच्चतम न्यायालय ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता को सीबीआई द्वारा दर्ज किए गए मामले में जमानत दे दी थी. ईडी के मामले में उन्हें बीते चार दिसंबर को जमानत मिली थी.

पूर्व वित्त मंंत्री पी चिदंबरम के खिलाफ सीबीआई ने 15 मई 2017 को मामला दर्ज किया था. सीबीआई ने आरोप लगाया था कि 2007 में आईएनएक्स मीडिया समूह को विदेशों से 305 करोड़ रुपये मिले थे. इस पैसे को लेने के लिए विदेशी निवेश संवर्द्धन बोर्ड (एफआईपीबी) की मंजूरी में कथित तौर पर अनियमितताएं बरती गई थीं. जब यह सब हो रहा था, उस समय पी चिदंबरम देश के वित्त मंत्री थे. सीबीआई के आरोप के बाद ईडी ने भी चिदंबरम के खिलाफ धनशोधन का मामला दर्ज किया था.