भारत-चीन के बीच लद्दाख में ताजा सीमा विवाद पर विपक्षी कांग्रेस और सरकार के बीच वार-पलटवार जारी है. इस मामले में स्थिति साफ करने की कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की मांग पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि उन्हें जो भी कहना है वे संसद में कहेंगे. वीडियो लिंक के जरिये महाराष्ट्र में एक जनसंवाद रैली को संबोधित करते हुए रक्षा मंत्री का कहना था, ‘भारत-चीन मामले में मुझे जो भी कहना है संसद में कहूंगा. मैं लोगों को गुमराह नहीं कर रहा हूं.’

रक्षा मंत्री ने कहा कि भारत और चीन मसला सुलझाने के लिये सैन्य और राजनयिक स्तर पर बातचीत कर रहे हैं जिसके अब तक के परिणाम सकारात्मक रहे हैं. राजनाथ सिंह का कहना था, ‘हम किसी के मान-सम्मान पर न चोट पहुंचाते हैं और न अपने मान, सम्मान और स्वाभिमान पर चोट बर्दाश्त कर सकते हैं. इसलिए विपक्ष को कहता हूं कि भारत-चीन मामले पर हमें ज्यादा समझाने की कोशिश मत कीजिए.’

भारत और चीन के बीच करीब साढ़े तीन हजार किलोमीटर लंबी सीमा है. बीते कुछ समय से लद्दाख में दोनों देशों की सेनाओं का जमावड़ा बढ़ा है. सैनिकों के बीच आपसी झड़पें भी हुई हैं. सैटेलाइट तस्वीरों से पता चला है कि चीन लद्दाख के पास एक एयरबेस का विस्तार कर रहा है. तस्वीरों से यह भी खुलासा होता है कि चीन ने वहां लड़ाकू विमान भी तैनात किए हैं. इसे लेकर दोनों देशों के बीच बीते हफ्ते एक अहम बैठक भी हुई है.