‘नमस्कार, कोरोना वायरस या कोविड 19 से आज पूरा देश लड़ रहा है. पर याद रहे, हमें बीमारी से लड़ना है, बीमार से नहीं. उनसे भेदभाव न करें, उनकी देखभाल करें.’

कोरोना वायरस संकट के इस दौर में अगर आप किसी को फोन लगा रहे होंगे तो दूसरी तरफ फोन उठने से पहले यह संदेश जरूर सुन रहे होंगे. इस संदेश में जो आवाज है उसे शायद ही कोई हो जो अब न पहचानता हो. यह आवाज दिल्ली की जसलीन भल्ला की है. कोरोना वायरस संकट को लेकर उनकी आवाज में रिकॉर्ड हुए संदेश आज कॉलर ट्यून के रूप में पूरा देश सुन रहा है.

जसलीन भल्ला दिल्ली में रहती हैं. वे वॉयस ओवर आर्टिस्ट हैं. दिल्ली विश्वविद्यालय से ग्रेजुएट जसलीन पिछले दस साल से इस पेशे में हैं. इससे पहले भी वे कई विज्ञापनों में अपनी आवाज दे चुकी हैं. जसलीन बताती हैं कि कोरोना वायरस का संक्रमण जब शुरुआती दिनों में था तो उनके एक प्रोड्यूसर ने उन्हें एक स्क्रिप्ट दी. उनसे कहा गया कि यह बहुत महत्वपूर्ण काम है जो स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने दिया है. जसलीन के मुताबिक उन्हें निर्देश दिया गया था कि इस संदेश को एक जिम्मेदारी वाले भाव के साथ पढ़ना है.

तब तक उन्हें पता नहीं था कि यह एक कॉलर ट्यून है. जसलीन भल्ला ने अपने घर पर ही बनाए गए स्टूडियो में रिकॉर्डिग की. इसे मंजूरी मिल गई. इसके बाद कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर उनके पास और भी कई संदेश वॉयस ओवर के लिए आ गए. एक समाचार वेबसाइट से बात करते हुए जसलीन कहती हैं, ‘कोरोना महामारी के दौरान सब अपनी तरह से योगदान कर रहे थे. मुझे लोगों को जागरूक करने का मौका मिला.’ उनकी आवाज में रिकॉर्ड संदेशों ने एक तरफ लोगों को जागरूक किया है तो दूसरी तरफ उन्हें सेलिब्रिटी भी बना दिया है.