भारत में कोरोना वायरस के मामलों का आंकड़ा सवा तीन लाख के पास पहुंच जाने के बीच एक अध्ययन में कहा गया है कि इस महामारी का पीक यानी चरम नवंबर के मध्य तक आ सकता है. यह अध्ययन भारत में कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में प्रमुख भूमिका निभा रही इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च यानी आईसीएमआर द्वारा करवाया गया है. इसमें कहा गया है कि करीब आठ हफ्ते के लॉकडाउन से इस महामारी के चरम को टालने और इस बीच स्वास्थ्य सुविधाओं को बढ़ाने में मदद मिली है.

इस बीच, एक राहत की बात यह है कि भारत में कोरोना वायरस के संक्रमण से उबरने की दर बढ़ते हुए 50 फीसदी के ऊपर हो गई है. स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक करीब सवा तीन लाख मरीजों में से उबरने वालों का आंकड़ा एक लाख 62 हजार 378 है. उधर, रेलवे ने फिलहाल दिल्ली के आनंद विहार से अपनी सेवाएं बंद कर दी हैं. बताया जा रहा है कि इस स्टेशन पर खड़े करीब 500 कोचों का इस्तेमाल कोरोना वायरस के मरीजों के लिए आइसोलेशन वार्ड के तौर पर किया जाएगा. राजधानी दिल्ली में इस महामारी के मामलों का आंकड़ा 40 हजार छूने को है. राजधानी में कोरोना वायरस संक्रमण के चलते 1200 से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं.