लद्दाख में चीनी सैनिकों के साथ हिंसक टकराव में भारत के एक सैन्य अधिकारी सहित बीस सैनिकों की मौत हो गई है. सेना के एक बयान के मुताबिक यह टकराव गलवान घाटी नाम के इलाके में हुआ. बताया जा रहा है कि भारतीयों सैनिकों की मौत पथराव से लगी चोटों के चलते हुई. चीनी मीडिया ने भी अपने सैनिकों के हताहत होने की बात कही है. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक इन सैनिकों की संख्या 43 तक हो सकती है. इनमें से कुछ चीनी सैनिक मारे गए हैं और कुछ गंभीर रूप से घायल हैं. चीन सरकार के मुखपत्र माने जाने वाले द ग्लोबल टाइम्स के संपादक हू शिन ने अपने एक ट्वीट में यह भी कहा है कि चीन के संयम को भारत उसकी कमजोरी न समझे.

फिलहाल शांति बहाली के लिए दोनों पक्षों के सैन्य अधिकारी बैठक कर रहे हैं. भारत और चीन के बीच लद्दाख से सटी सीमा को लेकर पिछले कुछ समय से तनाव चल रहा है. हाल में भी इस इलाके में दोनों पक्षों के बीच हिंसक झड़पों की खबर आई थी. लेकिन उसके बाद शांति बहाली के प्रयास शुरू हुए और कुछ ही दिन पहले चीन का बयान आया कि दोनों देश सीमा विवाद को लेकर एक सकारात्मक सहमति तक पहुंच गए हैं. इसके बाद पूर्वी लद्दाख के कई सीमाई इलाकों में दोनों देशों की सेनाओं के आपसी सहमति से दो से ढाई किमी पीछे हटने की भी खबर आई थी. लेकिन ताजा घटना ने हालात फिर गरमा दिए हैं.

उधर, चीन ने आरोप लगाया है कि दो भारतीय सैनिक उसके इलाके में घुस गए थे जिसके बाद तनाव शुरू हुआ. उसका यह भी कहना है कि भारत को कोई एकपक्षीय कार्रवाई करते हुए माहौल बिगाड़ने की कोशिश नहीं करनी चाहिए. दूसरी तरफ, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ताजा टकराव को लेकर सीडीएस बिपिन रावत और तीनों सेना प्रमुखों के साथ एक बैठक की है.

भारत और चीन के बीच करीब साढ़े तीन हजार किलोमीटर लंबी सीमा है. बीते कुछ समय से लद्दाख में दोनों देशों की सेनाओं का जमावड़ा बढ़ा है. सैटेलाइट तस्वीरों से पता चला है कि चीन लद्दाख के पास एक एयरबेस का विस्तार कर रहा है. तस्वीरों से यह भी खुलासा होता है कि चीन ने वहां लड़ाकू विमान भी तैनात किए हैं. इसके बाद भारत ने भी इस इलाके में अपनी सैन्य मौजूदगी बढ़ाई है.