बिहार और उत्तर प्रदेश में गुरुवार को आसमानी बिजली ने कहर बरपा दिया. दोनों राज्यों में बिजली गिरने की अलग-अलग घटनाओं में कम से कम 112 लोगों की मौत हो गई और 20 से ज्यादा लोग घायल हो गए. इनमें से 88 मौतें बिहार में हुईं. राज्य का गोपालगंज जिला सबसे ज्यादा प्रभावित रहा जहां 13 मौतों की खबर है. मधुबनी और नवादा में आठ-आठ लोग मारे गए हैं.

बिहार के गोपालगंज जिले में बिजली गिरने से एक शख्स की मौत पर बिलखता परिवार । पीटीआई

बीबीसी से बातचीत में बिहार के आपदा प्रबंधन विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने कहा कि अन्य जिलों में हुए जान-माल के नुकसान के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है. उनके मुताबिक मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि अगले कुछ दिनों तक मौसम इसी तरह रहेगा, इसलिए लोगों को खुद से सावधानी बरतनी होगी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिजली गिरने के चलते इतनी बड़ी संख्या में लोगों की मौत पर शोक जताया है. एक ट्वीट में उन्होंने यह भी कहा कि राज्य सरकारें तत्परता के साथ राहत कार्यों में जुटी हैं.

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी शोकसंतप्त परिवारों के प्रति संवेदना जाहिर की है. उन्होंने कांग्रेस कार्यकर्ताओं से पीड़ित परिवारों की हरसंभव मदद करने की अपील भी की है.