कोरोना वायरस के बढ़ते कहर के चलते अब दिल्ली के स्कूल 31 जुलाई तक बंद कर दिए गए हैं. दिल्ली में स्कूलों को दोबारा खोलने संबंधी योजना पर शुक्रवार को उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने अधिकारियों के साथ एक उच्च स्तरीय बैठक की. बैठक में इस बात पर सहमति बनी कि वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए स्कूल फिलहाल 31 जुलाई तक बंद रखे जाएं. मनीष सिसोदिया ने मीडिया से बातचीत में कहा, ‘स्कूलों को फिर से खोलना सिर्फ तकनीकी काम नहीं है, यह रचनात्मक कार्य भी है, जो स्कूलों को नई और बड़ी भूमिका देगा...दिल्ली में स्कूल 31 जुलाई तक बंद रहेंगे.’ इससे पहले बीते मई में जारी किए गए एक आदेश में राजधानी के स्कूलों को 30 जून तक बंद करने का निर्णय लिया गया था.

दिल्ली के शिक्षा विभाग की शुक्रवार को हुई बैठक में विभिन्न माध्यमों से ऑनलाइन शिक्षा जारी रखने संबंधी सुझावों पर भी चर्चा की गयी. दिल्ली सरकार की ओर जारी एक बयान में कहा गया है कि आज की बैठक में कई प्रस्तावों पर चर्चा हुई जिनमें सबसे प्रमुख प्रस्ताव 50 फीसदी पाठ्यक्रम में कटौती करने संबंधी था. अधिकारियों के मुताबिक बैठक में इस बात पर सहमति बनी है कि माता-पिता की मदद से ऑनलाइन कक्षाएं और गतिविधियां जारी रखी जानी चाहिए.

पिछले दिनों मनीष सिसोदिया ने केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ रमेश पोखरियाल निशंक को पत्र लिखकर स्कूलों की नई भूमिका पर विचार करने का अनुरोध किया था. उन्होंने लिखा था, ‘हमें अभी तय करना है कि हम खुद अपने देश और समाज की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए अपने स्कूलों का पुनर्निर्माण करेंगे या फिर इंतजार करेंगे कि कोई अन्य देश कुछ कर ले, उसके बाद हम उसे अपने यहां कॉपी पेस्ट करें.’

उधर, शुक्रवार को दिल्ली में कोरोना वायरस के मामले बढ़कर 73,780 हो गए. पिछले 24 घंटों में कोविड-19 के 3390 नए मामले सामने आए हैं. गुरुवार को 64 मरीजों को मौत इस वायरस की वजह से हो गई. नए मामलों के साथ एक्टिव केस भी बढ़कर 26,586 हो गए. राजधानी में अब तक कुल 2429 मरीजों की मौत हुई है.