चीन ने लद्दाख में भारत के साथ सीमा विवाद पर अपना आक्रामक रुख बढ़ा लिया है. एनडीटीवी की एक खबर के मुताबिक उसने पैंगॉन्ग झील के पास एक विवादित इलाके में न सिर्फ सैकड़ों टेंट गाड़ दिए हैं बल्कि उसके सैनिकों ने वहां पर चीनी भाषा में एक खास चिन्ह और चीन का एक विशाल नक्शा भी बना दिया है. बताया जा रहा है कि फिंगर 4 और 5 नाम की जगहों के बीच बनाए गए इन प्रतीक चिन्हों को सेटेलाइट से मिली तस्वीरों में भी देखा जा सकता है.

उधर, भारत ने भी संकेत दिए हैं कि वह पूर्वी लद्दाख के इस इलाके में चल रहे विवाद को शांति के साथ-साथ जोर आजमाइश से भी सुलझाने के लिए तैयार है. हिंदुस्तान टाइम्स की एक खबर के मुताबिक उसने गलवान वैली सेक्टर में छह टी-90 मिसाइल फायरिंग टैंक और एंटी टैंक मिसाइल सिस्टम की तैनाती कर दी है. आज भारत और चीन के सैन्य कमांडर इसी इलाके में बातचीत के लिए भी मिल रहे हैं.

इस इलाके में दोनों देशों की सेनाओं के बीच चल रही मौजूदा तनातनी 15 जून को तब बहुत बढ़ गई जब गलवान घाटी में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हो गई. इस दौरान 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए. उधर, 40 से ज्यादा चीनी सैनिकों के भी हताहत होने की खबर आई. इसके बाद से दोनों देशों के सैन्य कमांडरों के बीच वार्ता का दौर जारी है.