आठ पुलिसकर्मियों की हत्या का आरोपित और गैंगस्टर विकास दुबे के दिल्ली से सटे फरीदाबाद में दिखने की खबर है. बताया जा रहा है कि वह एक होटल में रुकने की कोशिश कर रहा था. सूचना मिलने पर पुलिस ने होटल पर छापा मारा, लेकिन इससे पहले ही वह भाग निकला. छापे में उसके दो साथी गिरफ्तार किए गए हैं. इनमें से एक उसकी छिपने में मदद कर रहा था जबकि दूसरा उसके गांव का ही था.

बीते हफ्ते उत्तर प्रदेश के कानपुर में गैंगस्टर विकास दुबे और उसके साथियों ने छापा मारने आई पुलिस की एक टीम पर हमला कर दिया था. इसमें एक डीएसपी सहित आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे. इसके बाद से उत्तर प्रदेश पुलिस की 25 टीमें विकास दुबे की तलाश में जुटी हैं. फरीदाबाद और गुरुग्राम हाई अलर्ट पर हैं और दिल्ली पुलिस को भी अलर्ट किया गया है. चर्चाएं हैं कि विकास दुबे दिल्ली-एनसीआर में आत्मसमर्पण कर सकता है. इस गैंगस्टर पर ईनाम की रकम को एक लाख से बढ़ाकर ढाई लाख रु कर दिया गया है.

इस बीच, विकास दुबे के एक करीबी सहयोगी अमर दुबे को पुलिस ने आज सुबह एक मुठभेड़ में मार गिराया. यह मुठभेड़ लखनऊ से करीब 200 किलोमीटर दूर हमीरपुर जिले में हुई. इस कुख्यात गैंगस्टर के एक और सहयोगी श्यामू वाजपेयी को कानपुर में हुए एक अलग मुठभेड़ के दौरान गिरफ्तार कर लिया गया है.

विकास दुबे पर हत्या सहित कई गंभीर आरोपों में 60 से भी ज्यादा मामले दर्ज हैं. आरोप है कि स्थानीय थाने के एसचओ सहित कई पुलिसकर्मियों की उसके साथ मिलीभगत थी और उनमें से ही किसी ने उसे छापे के बारे में पहले ही सूचना दे दी थी. पूरे थाने को लाइन हाजिर कर दिया गया है. 68 पुलिसकर्मियों के खिलाफ जांच शुरू हो गई है.