आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के आरोपित विकास दुबे से पूछताछ जारी है. उसकी गिरफ्तारी मध्य प्रदेश के उज्जैन में हुई. बताया जा रहा है कि वह सुबह करीब आठ बजे शहर के मशहूर महाकाल मंदिर में गया था. एक स्थानीय दुकानदार ने उसे पहचान लिया और पुलिस को खबर कर दी. जब वह मंदिर से बाहर निकला तो सिक्योरिटी गार्डों ने उससे पूछताछ की. इसके बाद उसे पकड़ लिया गया और पुलिस के हवाले कर दिया गया.

इस गिरफ्तारी का एक वीडियो भी सामने आया है. इसमें विकास दुबे सड़क पर पुलिस की पकड़ में दिख रहा है. उसे एक बोलेरो के पीछे खड़ा किया गया है. इसी दौरान किसी की आवाज आती है, ‘ये है क्या’. इसके बाद विकास दुबे चिल्लाता है, ‘मैं विकास दुबे हूं, कानपुर वाला.’ इसके बाद एक पुलिसकर्मी उसे पीछे से थप्पड़ मारता है और चुप रहने को कहता है. फिर पुलिसकर्मियों में बात होती है कि इस गैंगस्टर को कहीं भीतर ले जाया जाए.

बीते हफ्ते उत्तर प्रदेश के कानपुर में गैंगस्टर विकास दुबे और उसके साथियों ने छापा मारने आई पुलिस की एक टीम पर हमला कर दिया था. इसमें एक डीएसपी सहित आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे. इसके बाद से उत्तर प्रदेश पुलिस की 25 टीमें विकास दुबे की तलाश में जुटी हैं. विकास दुबे को छापे की पूर्व सूचना देने के आरोप में स्थानीय थाने के एसएचओ को गिरफ्तार कर लिया गया है. पूरे थाने को लाइनहाजिर कर दिया गया है और 60 से ज्यादा पुलिसकर्मियों के खिलाफ जांच जारी है. बीते दो दिनों में विकास दुबे के तीन साथी पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारे जा चुके हैं.

उधर, विकास दुबे की गिरफ्तारी के बाद मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राज्य पुलिस को बधाई दी है. एक ट्वीट में उनका यह भी कहना था कि उन्होंने इस पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से बात की है और इस अपराधी को जल्द ही उत्तर प्रदेश पुलिस को सौंपा जाएगा. एक अन्य ट्वीट में उनका कहना था कि जिनको लगता है कि महाकाल की शरण में जाने से उनके पाप धुल जाएंगे, उन्होंने महाकाल को जाना ही नहीं.