कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या का आरोपित विकास दुबे शुक्रवार सुबह पुलिस कार्रवाई में मारा गया है. उसे गुरुवार को ही मध्य प्रदेश के उज्जैन से पकड़ा गया था जहां से स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) की एक टीम उसे कानपुर ला रही थी. ख़बरों के मुताबिक काफिले की जिस गाड़ी में विकास दुबे बैठा हुआ था वह शुक्रवार सुबह हादसे का शिकार होकर पलट गई. यह हादसा कानपुर से कुछ ही किलोमीटर पहले हुआ. जानकारी के अनुसार इस हादसे के बाद विकास दुबे ने पुलिस की बंदूक छीनकर भागने की कोशिश की. लेकिन इसी दौरान कथित तौर पर पुलिस ने उसे मार गिराया. विकास दुबे के शव को कानपुर के लाला लाजपत राय हॉस्पिटल में लाया गया है, जहां पुलिस के आला अफसर पहुंचने लगे हैं. हालांकि अभी तक इस बारे में कोई आधिकारिक प्रतिक्रिया नहीं आई है.

बीते हफ्ते उत्तर प्रदेश के कानपुर में गैंगस्टर विकास दुबे और उसके साथियों ने छापा मारने आई पुलिस की एक टीम पर हमला कर दिया था. इसमें एक डीएसपी सहित आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे. इसके बाद से उत्तर प्रदेश पुलिस की 25 टीमें विकास दुबे की तलाश में जुटी थी. विकास दुबे को छापे की पूर्व सूचना देने के आरोप में स्थानीय थाने के एसएचओ को गिरफ्तार कर लिया गया है. पूरे थाने को लाइनहाजिर कर दिया गया है और 60 से ज्यादा पुलिसकर्मियों के खिलाफ जांच जारी है. बीते तीन दिनों में विकास दुबे के तीन साथी पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारे जा चुके हैं. और उसकी पत्नी और बेटे को भी गिरफ़्तार कर लिया गया है. सूत्रों के मुताबिक गिरफ्तारी के बाद विकास दुबे ने पुलिस के सामने कई बड़े खुलासे किए थे.