राजस्थान के उपमुख्यमंत्री पद और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद से हटाए गए सचिन पायलट कल राजधानी दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे. अपने ऊपर हुई कार्रवाई के बाद भी पायलट ने अभी तक पार्टी और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के खिलाफ सार्वजनिक रूप से कोई बयान नहीं दिया है. ऐसे में इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में वे अपनी बात रख सकते हैं. उपमुख्यमंत्री के पद से हटाए जाने के बाद से सचिन पायलट के सिर्फ दो ट्वीट आए हैं. पहले ट्वीट में उन्होंने लिखा है, ‘सत्य को परेशान किया जा सकता है, पराजित नहीं.’ दूसरे ट्वीट में उन्होंने समर्थन करने वालों का आभार जताया है. सचिन पायलट ने अपने ट्विटर प्रोफाइल से कांग्रेस पार्टी का नाम भी हटा दिया है.

इससे पहले कल राजस्थान में सचिन पायलट को राज्य कांग्रेस के मुखिया और उपमुख्यमंत्री पद से हटा दिया गया. पार्टी नेतृत्व की अपील के बावजूद वे मंगलवार को जयपुर में हुई विधायक दल की दूसरी बैठक में भी नहीं आए. इसके बाद बैठक में उनके खिलाफ कार्रवाई का प्रस्ताव पारित किया गया. विधायक दल की बैठक से गायब रहे उनके समर्थक दो मंत्रियों को भी मंत्रिमंडल से बाहर कर दिया गया है.

राजस्थान में बीते शनिवार को यह कलह तब शुरू हुई जब कांग्रेस सरकार को कथित रूप से अस्थिर करने के मामले में स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) ने सचिन पायलट को एक नोटिस भेजा. इसके बाद पायलट नाराज होकर दिल्ली रवाना हो गए. हालांकि, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का कहना था कि एसओजी का नोटिस उन्हें भी आया है और वो पूछताछ के लिए जाएंगे. जबकि सचिन पायलट के समर्थकों का आरोप था कि एसओजी का इस्तेमाल उपमुख्यमंत्री को बदनाम करने के लिए किया जा रहा है.