हाल ही में ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट चर्चा में थी जिसमें कहा गया था कि जल्द ही गूगल, रिलायंस डिजिटल में बड़े निवेश की घोषणा कर सकता है. रिलायांस प्रमुख मुकेश अंबानी ने इस खबर की पुष्टि की है. बुधवार को रिलायंस सालाना निवेशक बैठक के दौरान बोलते हुए उन्होंने कहा है कि ‘हम गूगल का जियो प्लेटफॉर्म्स में रणनीतिक निवेशक के तौर पर स्वागत करते हैं. हमने गूगल के साथ हुए समझौते के तहत गूगल जियो प्लेटफॉर्म्स में 7.7 फीसदी हिस्सेदारी के लिए 33,737 करोड़ का निवेश करेगा. इसके साथ ही अंबानी का यह भी कहना था कि ‘डिजिटल क्रांति मानव सभ्यता के सबसे बड़े बदलावों में से एक है. जियो का उद्देश्य है कि भारत इस बदलाव की अगुआई करे.’

इसके साथ ही मुकेश अंबानी जियो द्वारा फाइव-जी तकनीक को विकसित किए जाने की बात भी कही है. उनका कहना था कि अगले साल तक फाइव-जी स्पेक्ट्रम उपलब्ध होते ही इसका ट्रायल शुरू कर दिया जाएगा. गौरतलब है कि जियो, रिलायंस का डिजिटल सर्विस वेंचर है जिसके तहत रिलायंस जियो इंफोकॉम आता है. जियो में गूगल का यह निवेश बीते दो महीनों में रिलायंस इंडस्ट्रीज में हुआ 14वां बड़ा निवेश है. इससे पहले फेसबुक और क्वालकॉम समेंत कई निजी इक्विटी फर्मों में रिलायंस में निवेश किया है. बताया जा रहा है कि रिलायंस की इस 43वीं सालाना निवेश बैठक के दौरान गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई और फेसबुक प्रमुख मार्क जुकरबर्ग के संदेश भी प्रसारित किए गए थे.

इस खबर को दो दिन पहले गूगल की उस घोषणा से भी जोड़कर देखा जा रहा है जिसमें कहा गया था कि आने वाले सालों में कंपनी भारत की डिजिटल इकॉनमी में 10 बिलियन डॉलर (लगभग 75 हजार करोड़ रुपए) निवेश करेगी. गूगल ने भारत की डिजिटल ज़रूरतों से जुड़े नए उत्पाद और सेवाओं में निवेश की बात कही थी. जियो के साथ भी कंपनी डिजिटल सेवाओं के साथ-साथ सस्ते मोबाइल फोन बनाए जाने का इरादा जता रही है.