राजस्थान में चल रहे सियासी हंगामे के बीच उपमुख्यमंत्री पद हटा दिए गए सचिन पायलट ने आज सबको चौंकाते हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम को फोन किया. द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक इस मुलाकात पर पी चिदंबरम ने कहा, ‘मैंने उनसे यही कहा कि नेतृत्व ने सार्वजनिक रूप से उन्हें मिलने का न्योता दिया है और सारे मुद्दों पर चर्चा हो सकती है. मैंने उन्हें यह मौका न गंवाने की सलाह दी.’ उधर, कांग्रेस के एक अन्य वरिष्ठ नेता की मानें तो सचिन पायलट के साथ बात कर रहे नेताओं ने उन्हें आश्वत किया है कि अगर वे वापस आने का फैसला करते हैं तो उनकी सम्मानजनक तरीके से वापसी होगी.

सचिन पायलट सहित राजस्थान कांग्रेस के 19 विधायकों ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के खिलाफ बागी रुख अपनाया हुआ है. इसके चलते विधानसभा अध्यक्ष ने उन्हें अयोग्य घोषित करने की कार्यवाही शुरू कर दी है. उन्होंने इन विधायकों से जवाब मांगा है और इसकी समय सीमा आज ही खत्म हो रही है. इन सभी विधायकों ने इस प्रक्रिया को हाई कोर्ट में चुनौती दी है. उधर, अपनी बगावत के सवाल पर सचिन पायलट का कहना है कि वे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से इतना ही चाहते थे कि वे जनता से किए गए वादे पूरे करें. उन्होंने दावा किया कि पार्टी के अंदर चर्चा का कोई मंच बचा ही नहीं था.