राजस्थान में सियासी उठापटक जारी है. भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर राज्य में सत्ताधारी कांग्रेस से कई सवाल किए हैं. उन्होंने पूछा है कि क्या राजस्थान में राजनेताओं के फोन टैप किए जा रहे हैं और अगर हां तो क्या इसके लिए जरूरी प्रक्रियाओं का पालन किया जा रहा है. संबित पात्रा ने यह भी कहा कि कांग्रेस के भीतर ही उसकी सरकार गिराने की साजिश चल रही है और इसके लिए भाजपा को दोष देना गलत है.

इससे पहले राजस्थान में सत्ताधारी कांग्रेस ने कुछ ऑडियो टेप रिलीज करते हुए दावा किया था कि भाजपा उसकी सरकार गिराने की कोशिश कर रही है. इन टेप्स के आधार पर केंद्रीय मंत्री गजेंद्र शेखावत और कांग्रेस विधायक भंवरलाल शर्मा के अलावा जयपुर के एक कारोबार संजय जैन के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था. उधर, गजेंद्र शेखावत का कहना था कि यह टेप फर्जी है और वे हर तरह की जांच के लिए तैयार हैं.

यह पूरा मामला तब शुरू हुआ जब राजस्थान कांग्रेस के अध्यक्ष और उपमुख्यमंत्री रहे सचिन पायलट ने अपने 18 साथी विधायकों के साथ मिलकर अशोक गहलोत सरकार के खिलाफ बगावत कर दी. इसके बाद कांग्रेस ने उन्हें इन दोनों पदों से हटा दिया. हालांकि पार्टी का कहना है कि अगर सचिन पायलट अब भी वापस आना चाहें तो उनकी सम्मानजनक वापसी होगी.