तीन साल पहले जिस आईपीएल फिक्सिंग कांड ने समूचे क्रिकेट जगत को स्तब्ध कर दिया था उससे जुड़े मामले की सुनवाई कर रही दिल्ली की एक अदालत ने लगभग वैसा ही हैरान करने वाला फैसला सुनाते हुए एस श्रीसंत, अजित चंदीला, और अंकित चव्हाण को सबूतों के अभाव में बरी कर दिया है. इन तीनों ही खिलाड़ियों पर सटोरियों के साथ मिल कर मैच फिक्सिंग करने का आरोप था. इनके अलावा 36 और लोगों को भी अदालत ने बरी कर दिया है. इस मामले में अंडरवर्ड माफिया दाउद इब्राहिम समेत कुल 43 लोग आरोपित थे. अदालत के आदेश ने इस मामले की जांच करने वाली दिल्ली पुलिस की कार्यप्रणाली पर भी गंभीर सवाल खड़े किए हैं. आदेश में कहा गया है कि दिल्ली पुलिस कोर्ट में ऐसा कोई भी मजबूत सबूत पेश नहीं कर पाई जिसके आधार पर आरोपितों के आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग में शामिल होने की बात साबित हो सकती थी. अदालत द्वारा बरी कर दिए जाने पर श्रीसंत, चंदीला और अंकित चव्हाण ने खुशी जताई है. तीनों ने यह उम्मीद भी जताई है कि वे एक बार फिर से क्रिकेट के मैदान में वापसी कर सकेंगे. हालांकि बीसीसीआई ने इन तीनों पर लगाए गए बैन को जारी रखने की बात कही है.


'अदालत ने श्रीसंत पर जो भी आरोप थे उन्हें हटा दिया है इसलिए मुझे नहीं लगता कि बीसीसीआई को (श्रीसंत पर लगा प्रतिबंध हटाने में) अब कोई समस्या होनी चाहिए.' - सौरव गांगुली




मोदी ने बिहार में चुनावी बिगुल फूंका
बिहार विधानसभा चुनाव की तारीख तय होने से पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एनडीए के प्रचार अभियान की शुरुआत कर दी है. मुजफ्फरपुर में आयोजित एक बड़ी रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने लोगों से भाजपा की अगुवाई वाले एनडीए गठबंधन को जिताने की अपील की. अपने भाषण का अधितकर हिस्सा नीतीश कुमार और लालू यादव की जोड़ी को समर्पित करते हुए उन्होंने इन दोनों नेताओं पर जमकर जुबानी वार किए. उन्होंने नीतीश कुमार पर राज्यवासियों के भरोसे का गला घोंटने का आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने सत्ता में बने रहने के लिए लालू से हाथ मिला कर बिहार की जनता के साथ बड़ा धोखा किया है. उन्होंने जीतन राम मांझी के बहाने भी नीतीश को घेरने की कोशिश की. मांझी को मुख्यमंत्री पद से हटाए जाने की घटना को 'महादलित' का अपमान बताते हुए उन्होंने कहा कि अपमान करना शायद नीतीश कुमार के डीएनए में है. अपने भाषण में लालू प्रसाद को निशाने पर लेते हुए मोदी ने कहा कि केंद्रीय रेलमंत्री रहने के बावजूद वे बिहार का भला नहीं कर सके. उन्होंने लालू की पार्टी, आरजेडी को 'रोजाना जंगलराज का डर' कह कर चुटकी भी ली. मोदी की रैली के बाद लालू और नीतिश ने भी उन पर पलटवार शुरू कर दिया है. नीतीश कुमार ने उनके डीएनए को लेकर की गई टिप्पणी को बिहार की अस्मिता से जोड़ते हुए इसे पूरे राज्य का अपमान बताया है. दूसरी तरफ लालू प्रसाद यादव ने अपने चिरपरिचित अंदाज में भाजपा को 'भारत जलाओ पार्टी' बताया है. बिहार में इस साल के आखिर तक चुनाव होने हैं.
सेना दूसरा कारगिल नहीं होने देगी: जनरल सुहाग
भारतीय थल सेना के प्रमुख जनरल दलबीर सिंह सुहाग ने भरोसा दिलाया है कि देश के सामने कभी भी कारगिल जैसी परिस्थितियां नहीं आने दी जाएंगी. कॉरगिल विजय की 16वीं वर्षगांठ के मौके पर जम्मू कश्मीर के द्रास सैक्टर में आयोजित एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि 'बीते सालों में हमने अपनी ताकत इस कदर मजबूत कर ली है कि अब किसी के लिए भी कारगिल दोहराना संभव नहीं होगा.' यह कार्यक्रम कारगिल की लड़ाई में शहीद हुए सैनिकों को श्रद्धांजलि देने के लिए आयोजित किया गया था. इस युद्ध की याद में हर साल 26 जुलाई को कारगिल विजय दिवस मनाया जाता है. कारगिल की लड़ाई मई 1999 में तब शुरू हुई थी, जब पाक सैनिकों और घुसपैठियों ने कारगिल चोटी समेत कई दूसरी भारतीय चोटियों पर कब्जा जमा लिया था. दो महीने तक चली भीषण लड़ाई के बाद भारतीय सिपाहियों ने इन सभी जगहों पर दोबारा तिरंगा फहरा दिया था. लेकिन इसके लिए सेना को अपने 490 जांबांज भी गंवाने पड़े थे. इस लड़ाई के बाद भी पाकिस्तान की तरफ से होने वाली घुसपैठ लगातार जारी हैं. ऐसे में जनरल सुहाग के इस बयान को बेहद अहम माना जा रहा है.