कोबरापोस्ट के कैमरों पर लक्ष्मणपुर बाथे नरसंहार के आरोपितों का कहना है कि पूर्व प्रधानमन्त्री चंद्रशेखर की मदद से उन्हें हथियार मिले थे और पूर्व वित्तमंत्री यशवंत सिन्हा ने उनकी राजनीतिक और आर्थिक मदद की थी
खोजी पत्रकारिता के लिए मशहूर वेबसाइट 'कोबरापोस्ट' का एक नया स्टिंग ऑपरेशन सामने आया है. इस स्टिंग ऑपरेशन में 'रणबीर सेना' के कई पूर्व कमांडर दलितों की हत्या करने की बात स्वीकारने के साथ ही कई सनसनीखेज खुलासे करते दिख रहे हैं. इस स्टिंग ऑपरेशन के अनुसार मुरली मनोहर जोशी, सीपी ठाकुर और सुशील मोदी जैसे बड़े राजनेताओं के साथ ही पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर भी 'रणवीर सेना' की प्रत्यक्ष या परोक्ष तरीके से मदद कर चुके हैं.
'रणबीर सेना' बिहार के जमींदारों द्वारा बनाया गया एक संगठन था. इस संगठन पर बिहार में सैकड़ों दलितों के नरसंहार का आरोप है. इनमें बथानी टोला, शंकर बिगहा, सरथुआ, इकवारी, मियांपुर और लक्ष्मणपुर बाथे नरसंहार प्रमुख हैं. इन्हीं नरसंहारों के आरोपितों में शामिल रणबीर सेना के छह पूर्व कमांडरों का कोबरापोस्ट ने स्टिंग किया है. लक्ष्मणपुर बाथे नरसंहार में कुल 58 लोगों की हत्या कर दी गई थी. इस मामले में कुल 46 लोगों को आरोपित बनाया गया था. इनमें से 19 लोगों को निचली अदालत ने ही बरी कर दिया था जबकि एक व्यक्ति सरकारी गवाह बन गया था. बाकी आरोपितों में से 16 को अदालत ने फांसी की सजा सुनाई थी जबकि 10 को उम्रकैद हुई थी. लेकिन 2013 के अंत में पटना उच्च न्यायालय ने सबूतों के अभाव में सभी आरोपितों को बरी कर दिया था. इसी तरह शंकर बिगहा में हुई 23 दलितों की हत्या के सभी आरोपित भी न्यायालय द्वारा बरी किये जा चुके हैं. बथानी टोला और मियांपुर नरसंहार में भी रणबीर सेना के सभी आरोपित सदस्यों को न्यायालय बरी कर चुका है.
जस्टिस अमीर दास के मुताबिक शिवानंद तिवारी, सीपी ठाकुर, मुरली मनोहर जोशी और सुशील कुमार मोदी जैसे नेताओं ने जांच को प्रभावित करने की कोशिश की थी
कोबरापोस्ट ने अपने हालिया स्टिंग ऑपरेशन 'ब्लैक रेन' में रणबीर सेना के चंद्रकेश्वर सिंह, सिद्धनाथ राय, प्रमोद सिंह, रवींद्र चौधरी, भोला राय और अरविंद सिंह के बयानों को ख़ुफ़िया कैमरों में कैद किया है. इनमें से कुछ को न्यायालयों ने बरी कर दिया है जबकि कुछ आज भी जेल में कैद हैं. कोबरापोस्ट के कैमरों पर इन लोगों ने यह कबूल किया है कि इन्होने ही दलितों के नरसंहार में मुख्य भूमिका निभाई थी. साथ ही इनमें से कुछ लोगों ने यह भी बताया है कि धनबाद के बाहुबली नेता सूर्यदेव ने तत्कालीन प्रधानमन्त्री चंद्रशेखर से अपनी नजदीकियों के चलते भारतीय सेना के पुराने हो चुके हथियार रणबीर सेना को उपलब्ध करवा दिए थे. इसके साथ ही इन लोगों ने अटल बिहारी वाजपेयी के मंत्रिमंडल में शामिल रहे यशवंत सिन्हा का नाम लेते हुए यह भी कहा है कि उन्होंने रणबीर सेना की राजनीतिक मदद करने के साथ ही साढ़े पांच लाख रूपये की वित्तीय मदद भी की थी.
कोबरापोस्ट ने इस ऑपरेशन के दौरान जस्टिस अमीर दास से भी बात की है. जस्टिस दास पटना उच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश रहने के साथ ही लक्ष्मणपुर बाथे नरसंहार की जांच के लिए बने आयोग के अध्यक्ष भी रहे हैं. वे कोबरापोस्ट को बताते हैं कि शिवानंद तिवारी, सीपी ठाकुर, मुरली मनोहर जोशी और सुशील कुमार मोदी जैसे नेताओं ने जांच को प्रभावित करने की कोशिश की थी.
बिहार में हुए इन दलित नरसंहारों के कई मामले आज भी विभिन्न न्यायालयों में लंबित हैं. माना जा रहा है कि कोबरापोस्ट के इस 'ऑपरेशन ब्लैक रेन' के बाद ऐसे मामलों की सुनवाई प्रभावित हो सकती है. कुछ लोगों का यह भी मानना है कि बिहार चुनाव से ठीक पहले आये इस स्टिंग ऑपरेशन के पीछे कुछ राजनीतिक ताकतें भी हो सकती हैं.