भारत और पाकिस्तान के बीच होने वाली राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार स्तर की बातचीत से पहले नजरबंद किए गए कश्मीरी अलगाववादी नेताओं यासीन मलिक और मीरवाइज उमर फारुख को रिहा कर दिया गया है. पाकिस्तानी एनएसए और अलगाववादियों की प्रस्तावित मुलाकात को देखते हुए इन दोनों नेताओं को एहतियातन हिरासत में लिया गया था. हालांकि एक और अलगाववादी हुर्रियत नेता, सैयद अली शाह गिलानी को अभी भी नजरबंद रखा गया है. इस सबके बाद भी सरताज अजीज और अलगाववादी नेताओं के बीच होने वाली मुलाकात को लेकर संशय बना हुआ है. पाकिस्तानी उच्चायोग ने भारत और पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों अजीत डोभाल और सरताज अजीज की मुलाकात से ठीक पहले 23 अगस्त को अलगाववादियों को वार्ता के लिए बुलाया है. पाकिस्तान के इस कदम को लेकर भारत एक दिन पहले ही अपनी नाराजगी जता चुका है. माना जा रहा है कि अपनी नाराजगी को जाहिर करने और पाकिस्तान को सख्त संदेश देने के लिए ही अलगाववादी नेताओं की नजरबंदी की गई.


'ऐसा कोई प्रधानमंत्री देखा क्या हम लोगों ने जिसने 50 करोड़, 70 करोड़, 90 करोड़, कितना दें...मोदीजी ठीक से बोलो नहीं तो नस फट जाएगा...'

लालू प्रसाद यादव, राजद अध्यक्ष

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बिहार को दिए गए आर्थिक पैकेज पर टिप्पणी करते हुए



ललित मोदी प्रकरण में सीबीआई ने इंटरपोल को सभी दस्तावेज सौंपे
लंदन मैं बैठे पूर्व आईपीएल कमिश्नर ललित मोदी की भारत वापसी को लेकर चल रही कवायद के तहत सीबीआई ने इंटरपोल को वे सभी दस्तावेज सौंप दिये हैं जिनमें ललित मोदी के खिलाफ मनीलांड्रिंग संबंधी सबूत हैं. मोदी के खिलाफ रेड कार्नर नोटिस जारी करने के बाद सीबीआई ने यह दूसरा बड़ा कदम उठाया है. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने कुछ दिन पहले ही सीबीआई से मोदी के खिलाफ रेड कार्नर नोटिस जारी करने की अपील की थी. बताया जा रहा है कि सीबीआई ने इंटरपोल को सबूतों का ऐसा भारी भरकम पुलिंदा सौपा है जिसे देखने के बाद इंटरपोल के पास ललित मोदी के खिलाफ एक्शन न लेने की शायद ही कोई वजह बचे. किसी व्यक्ति (भगोड़े) के खिलाफ रेड कार्नर नोटिस जारी करने के बाद संबंधित देश की सरकार अंतर्राष्ट्रीय पुलिस यानी इंटरपोल को सूचना देती है, जिसके बाद उस व्यक्ति के प्रत्यर्पण या गिरफ्तारी का जिम्मा उसके हाथ में आ जाता है. ऐसे में अब सीबीआई की नजरें इंटरपोल के अगले कदम पर टिक गई हैं.
दूसरे टेस्ट में टीम इंडिया की संतोषजनक शुरुआत
भारत और श्रीलंका के बीच खेले जा रहे दूसरे टेस्ट मैच के पहले दिन छह विकेट पर 319 रन बना कर भारत ने संतोषजनक शुरुआत की है. शुरुआती लड़खड़ाहट के बाद संभलते हुए नये खिलाड़ी लोकेश राहुल के शानदार शतक (108), और कप्तान विराट कोहली तथा रोहित शर्मा के अर्ध शतकों की मदद से भारत रनों के आंकड़े को तीन सौ के पार पहुंचाने में कामयाब रहा. दिन की आखिरी गेंद पर आउट होने वाले रोहित शर्मा ने खराब फार्म से उबरते हुए 79 रन बनाए. इससे पहले भारत की शुरुआत बेहद खराब रही और पहले ओवर में ही सलामी बल्लेबाज मुरली विजय बिना खाता खोले आउट हो गए. उनके बाद अजिंक्य रहाणे भी जल्द पैवेलियन लौट गए. इसके बाद विराट कोहली और लोकेश राहुल ने पारी को संभालते हुए 164 रनों की साझेदारी की. तीसरे विकेट के लिए हुई यह साझेदारी श्रीलंका के खिलाफ भारत की अब तक की तीसरी सबसे बड़ी टेस्ट साझेदारी है. श्रीलंका की तरफ से घमिका प्रसाद और रंगना हेराथ ने दो-दो विकेट लिए. बाकी के दो विकेट कप्तान एंजेला मैथ्यूज और दुष्मंथा चमीरा को मिले.