सुप्रीम कोर्ट ने जजों की नियुक्ति‍ के लिए बने राष्ट्रीय न्यायिक नियुक्त‍ि आयोग (एनजेऐसी) को असंवैधानिक करार दिया है. इसके साथ ही सर्वोच्च अदालत ने साफ कर दिया है कि जजों की नियुक्ति‍ पहले की तरह कॉलेजियम सिस्टम से ही होगी. अदालत ने इस मामले को बड़ी बेंच में भेजने की याचिका को भी खारिज कर दिया है. उधर, केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि इस फैसले से संसद की संप्रभुता पर सवाल खड़े हो गए. हैं. क़ानून मंत्री सदानंद गौड़ा ने फैसले पर हैरानी जताते हुए कहा कि सरकार कोर्ट का पूरा आदेश पढने और विचार-विमर्श करने के बाद ही कोई कदम उठाएगी.
गौरतलब है कि वर्ष 1993 से जजों की नियुक्ति और तबादलों का निर्धारण एक कॉलेजियम व्यवस्था के तहत हो रहा था. इसमें सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश सहित चार अन्य वरिष्ठतम जज शामिल होते हैं. इसके तहत कॉलेजियम सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट में जजों की नियुक्ति की अनुशंसा करता था. इस पर राष्ट्रपति की स्वीकृति के बाद संबंधित नियुक्ति की जाती थी. लेकिन, अगस्त, 2014 में केंद्र की मोदी सरकार ने इस काम के लिए संविधान में संशोधन करके एक न्यायिक नियुक्ति आयोग(एनजेऐसी) बना दिया. छह सदस्यीय इस आयोग के सदस्यों में सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश, दो वरिष्ठतम जज, केन्द्रीय कानून मंत्री के अलावा दो प्रबुद्ध लोगों को भी शामिल करने का प्रावधान था. इन दो प्रबुद्ध लोगों का चयन प्रधानमंत्री, प्रधान न्यायाधीश और लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष को करना था.


'आपातकाल में भी लेखकों और लेखनी को इस कदर कैद नहीं किया गया था. अब तो संवाद का संहार हो रहा है.'

काशीनाथ सिंह, वरिष्ठ साहित्यकार
साहित्य अकादमी पुरस्कार का ऐलान करते हुए



स्टेडियम में नहीं जाने देने पर, रोकेंगे भारतीय टीम का रास्ता : हार्दिक पटेल
हार्दिक पटेल ने एक बार फिर गुजरात सरकार को राजकोट में होने वाले वनडे मैच में खलल डालने की धमकी दी है. हार्दिक ने कहा है कि यदि सरकार ने पाटीदारों को स्टेडियम में जाने से रोका तो वह टीम इंडिया का रास्ता रोकेंगे और स्टेडियम के बाहर प्रदर्शन भी करेंगे. हार्दिक ने एक वीडियो जारी कर आरोप लगाया है कि सौराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन ने मैच के सारे टिकट भाजपा कार्यकर्ताओं में बाट दिए हैं. उनके अनुसार, राज्य सरकार ऐसा करके पाटीदारों के खिलाफ साजिश रच रही है. इस साजिश के तहत अगर मैच के दौरान कोई गड़बड़ी होती है तो सरकार सारी जिम्मेदारी पाटीदार समाज पर डाल देगी. 18 अक्टूबर को भारत, दक्षिण अफ्रीका के बीच होने वाले मैच को लेकर हार्दिक पटेल पहले भी इस तरह की धमकी दे चुके हैं. कुछ दिन पहले ही उन्होंने पटेल सुमदाय से इस मैच के ज्यादा से ज्यादा टिकट खरीदने की अपील की थी. हालांकि, इस ऐलान के बाद राज्य सरकार ने इस मैच को लेकर सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त किए हैं.
बिहार विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण में 55 प्रतिशत मतदान
बिहार विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण में छह जिलों की 32 सीटों के लिए मतदान संपन्न हो गया. चुनाव आयोग के अनुसार दूसरे चरण में 55 प्रतिशत मतदान हुआ है जो पिछले विधानसभा चुनाव के मुकाबले तीन प्रतिशत ज्यादा है. राज्य के मुख्य चुनाव अधिकारी अजय नायक ने बताया कि पहले चरण के मतदान की तरह ही दूसरे चरण में भी महिलाओं ने पुरुषों से ज्यादा वोटिंग की है. इस बार 57 प्रतिशत महिलाओं ने और 52.62 प्रतिशत पुरुषों ने वोट डाले.  सबसे ज्यादा 57.86 प्रतिशत मतदान कैमूर विधानसभा क्षेत्र में हुआ. अजय नायक के अनुसार, राहत की बात यह रही कि इस चरण में 11 नक्सल प्रभावित विधानसभा क्षेत्र होने के बावजूद मतदान पूरी तरह से शांतिपूर्ण रहा. इस चरण में पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी और विधानसभा अध्यक्ष उदय नारायण चौधरी जैसे कई दिग्गजों की किस्मत ईवीएम में बंद हुई. बिहार में तीसरे चरण के लिए मतदान 28 अक्टूबर को है.