छोटा राजन की गिरफ्तारी | सोमवार, 26 अक्टूबर 2015
माफिया डॉन छोटा राजन को इंडोनेशिया में गिरफ्तार कर लिया गया. पिछले दो दशक से फरार चल रहे छोटा राजन का नाम भारत सरकार और इंटरपोल की मोस्ट वांटेड अपराधियों की सूची में दर्ज है. उसका असली नाम राजेंद्र सदाशिव निखलांजे है. इंटरपोल के अनुसार, राजन पर करीब 20 लोगों की हत्या का आरोप है. छोटा राजन पहले एक और अपराध सरगना डॉन दाऊद इब्राहिम के साथ काम करता था, लेकिन बाद में दोनों अलग हो गए और फिर एक दूसरे के कट्टर दुश्मन भी बन गए. खबरों के मुताबिक जल्द ही छोटा राजन को भारत लाया जाएगा.
हार्दिक पटेल को अदालती झटका | मंगलवार, 27 अक्टूबर 2015
गुजरात हाई कोर्ट ने पटेल आरक्षण आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल को बड़ा झटका दिया. कोर्ट ने उनके खिलाफ सूरत में दर्ज एफआईआर को खारिज करने से इनकार करते हुए कहा है कि उनके खिलाफ प्रथम दृष्ट्या देशद्रोह का मामला सही है क्योंकि उन्होंने एक युवक को पुलिसकर्मियों को जान से मारने की सलाह दी थी. अदालत का कहना है कि किसी व्यक्ति को समाज में शांति भंग करने के लिए उकसाना देशद्रोह है. अदालत ने यह फैसला हार्दिक के पिता की उस याचिका पर सुनाया, जिसमें उन्होंने हार्दिक के खिलाफ दर्ज देशद्रोह की एफआईआर को रद्द करने का अनुरोध किया था.
12 फिल्मकारों ने राष्ट्रीय पुरस्कार लौटाए | बुधवार, 28 अक्टूबर 2015
फिल्म एवं टेलीविजन संस्थान (एफटीआईआई) में गजेंद्र चौहान को चेयरमैन बनाए जाने के विरोध में आंदोलन कर रहे छात्रों ने 139 दिनों बाद अपनी हड़ताल खत्म कर दी. इसके साथ ही उनके समर्थन में फिल्म निर्देशक दिबाकर बनर्जी सहित 12 फिल्मकारों ने अपने राष्ट्रीय पुरस्कार सरकार को लौटा दिए. फिल्मकारों ने कहा है कि इस समय देश में असहिष्णुता का माहौल है और इसके विरोध में उन्होंने यह फैसला किया है.
अखिलेश यादव ने 8 मंत्रियों को बर्खास्त किया | गुरुवार, 29 अक्टूबर 2015
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आठ मंत्रियों को बर्खास्त कर दिया. इनमें पांच कैबिनेट और तीन राज्य मंत्री हैं. इसके अलावा उन्होंने नौ मंत्रियों को उनके विभाग से हटाकर उनका प्रभार अपने हाथों में ले लिया. मुख्यमंत्री के द्वारा की गयी इस कार्रवाई में रघुराज प्रताप सिंह ‘राजा भइया’ को भी खाद्य एवं रसद मंत्रालय के प्रभार से मुक्त कर दिया गया. बताया जाता है कि 2017 के विधान सभा चुनाव से पहले सपा सरकार की छवि सुधारने के चलते मुख्यमंत्री ने यह कदम उठाया है.
मूडीज की मोदी को सलाह | शुक्रवार, 30 अक्टूबर 2015
अंतरराष्ट्रीय साख निर्धारण एजेंसी मूडीज ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आगाह किया. उसकी एक रिपोर्ट में कहा गया है कि मोदी अनाप-शनाप बोलने वाले पार्टी के सदस्यों पर लगाम नहीं लगायेंगे तो वे घरेलू और अंतराष्ट्रीय स्तर पर विश्वसनीयता खो देंगे. मूडीज की ‘भारत का परिदृश्य : संभावनाओं की तलाश’ शीर्षक नामक इस रिपोर्ट का कहना है कि अगर भारत को अपेक्षित विकास करना है तो सरकार को उन सुधार कार्यक्रमों पर अमल करना होगा जिनका उसने वायदा किया है.
बढ़ती असहिष्णुता पर नारायण मूर्ति भी बोले | शनिवार, 31 अक्टूबर 2015
देश में बढ़ती असहिष्णुता पर अब इंफ़ोसिस के संस्थापक नारायण मूर्ति ने भी चिंता जताई है. एक समाचार चैनल से बातचीत में उन्होंने कहा कि मौजूदा वक्त में अल्पसंख्यकों के मन में डर समाया हुआ है और देश को आर्थिक विकास की राह पर ले जाने के लिए इस डर को खत्म करना बहुत ज़रूरी है. नारायण मूर्ति का कहना था, ‘इस समय देश में एक डर का माहौल है और आए दिन लोग उन्हें इस डर के बारे में बता रहे हैं.’ मूर्ति ने आगे कहा कि सरकार को सबसे पहले शांति और सौहार्द्र का माहौल बनाने का प्रयास करना चाहिए. मूर्ति के अनुसार जब देश के नागरिकों के बीच भरोसे और उत्साह का माहौल होगा तभी देश में आर्थिक विकास को गति मिलेगी.