हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज से कहासुनी के बाद महिला आईपीएस संगीता कालिया का तबादला कर दिया गया है. संगीता को फतेहाबाद से हटाकर मानेसर में इंडिया रिजर्व बटालियन का कमांडेंट बनाया गया है. हरियाणा सरकार ने यह फैसला अनिल विज के द्वारा मुख्यमंत्री मनोहर खट्टर से की गयी शिकायत के बाद लिया है. हरियाणा सरकार के प्रवक्ता ने इस फैसले की जानकारी देते हुए कहा, 'पुलिस का कोई भी अधिकारी मंत्री से बड़ा नहीं होता. अगर मंत्री जी ने कुछ गलत भी बोल दिया था, तो भी अधिकारी को बहस नहीं करनी चाहिए थी.'
बीते शुक्रवार को हरियाणा के फतेहाबाद में एक बैठक के दौरान अनिल विज और एसपी संगीता के बीच बहस हो गयी थी. दरअसल, बैठक में मंत्री विज ने एसपी से सवाल पूछा कि नशे पर रोक क्यों नहीं लगाई जा रही है. इस पर एसपी ने जबाब देते हुए कहा, 'शराब बेचने के लाइसेन्स तो सरकार ही देती है.' इसके बाद बहस इतनी बढ़ गई कि विज ने महिला एसपी को फटकारते हुए बाहर जाने को कह दिया, लेकिन एसपी ने बाहर जाने से मना कर दिया था. जिसके बाद विज बैठक छोड़ कर चले गए.


'जेडीयू-आरजेडी-कांग्रेस का मिलन दिल का मिलन नहीं है...नीतीश सरकार अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर पाएगी, राज्य में मध्यावधि चुनाव निश्चित हैं.'

रामविलास पासवान, केन्द्रीय मंत्री
एलजेपी के स्थापना दिवस कार्यक्रम के दौरान



केजरीवाल का लोकपाल बिल अन्ना के जनलोकपाल से बिलकुल अलग : प्रशांत भूषण
केजरीवाल सरकार के जनलोकपाल बिल का विरोध बढ़ता ही जा रहा है. अब आम आदमी पार्टी के संस्थापक सदस्य और वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने इस बिल को लेकर केजरीवाल पर हमला बोला है. भूषण का कहना है कि जिस लोकपाल बिल को केजरीवाल विधानसभा में पास कराने जा रहे हैं वह केंद्र सरकार के 2013 के लोकपाल बिल से भी ज्यादा खराब है. प्रशांत भूषण ने मीडिया को बताया कि उन्हें दिल्ली सरकार के जनलोकपाल बिल की कॉपी आप विधायक पंकज पुष्कर से प्राप्त हो गयी है और यह बिल अन्ना हजारे के जनलोकपाल बिल से बहुत अलग है. वहीं, प्रशांत भूषण के आरोपों का जवाब देते हुए आप नेता गोपाल राय ने कहा, 'बिल में बदलाव नहीं किया गया है, हम दिल्ली को भ्रष्‍टाचार के खिलाफ मज़बूत लोकपाल देने जा रहे हैं.'
अब मैगी पास्ता में ज्यादा सीसे की मात्रा पायी गयी
खाद्य उत्पाद बनाने वाली कंपनी नेस्ले की मुश्किलें कम होती नहीं दिख रहीं. मैगी नूडल्स के बाद अब नेस्ले के पास्ता में तय सीमा से अधिक सीसे की मात्रा पायी गयी है. उत्तर प्रदेश के मऊ जिले के खाद्य विभाग के अधिकारी अरविंद यादव ने बताया कि उन्होंने बीते 10 जून को नेस्ले के एक स्थानीय उत्पाद वितरक के यहां से पास्ता के नमूने लिए थे. इन्हें जांच के लिए लखनऊ स्थित राजकीय खाद्य परीक्षण  प्रयोगशाला में भेजा गया था. अधिकारी के अनुसार जांच के दौरान मैगी पास्ता में सीसे की मात्रा छह पीपीएम पाई गई जोकि तय मात्रा 2.5 पीपीएम से काफी ज्यादा है. वहीं नेस्ले इण्डिया का कहना है कि उसके उत्पाद खाने के लिए पूरी तरह सुरक्षित हैं और मीडिया रिपोर्टों से जो भ्रम की स्थिति पैदा हुई है उसे जल्द दूर किया जाएगा.