दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण को रोकने के लिए केजरीवाल सरकार ने कमर कस ली है. सरकार ने इस मामले में कई बड़े फैसले लिए हैं. दिल्ली के मुख्य सचिव केके शर्मा ने कहा है कि अब दिल्ली में नंबर के हिसाब से सड़कों पर गाड़ियां चलेंगी. सम संख्या (0,2,4,6,8) की नंबर प्लेट वाली गाड़ियां पहले दिन और विषम संख्या (1,3,5,7,9) वाली नंबर प्लेट की गाड़ियां दूसरे दिन चलेंगी. शर्मा के अनुसार 1 जनवरी 2016 से लागू होने वाली इस योजना से दिल्ली की सड़कों पर गाड़ियों की संख्या आधी हो जायेगी. सरकार का यह फैसला सिर्फ दिल्ली में पंजीकृत करीब 90 लाख निजी दो पहिया और चार पहिया वाहनों पर लागू होगा. साथ ही सरकार इससे होने वाली असुविधा को देखते हुए ज्‍यादा से ज्‍यादा बसें और मेट्रो ट्रेनें भी चलाएगी. मुख्य सचिव ने आगे बताया कि दिल्ली में कोयले से चलने वाले सभी बिजली प्लांटों को बंद किया जाएगा. इसके अलावा दिल्ली सरकार ने यूपी सरकार से दादरी बिजली प्लांट को बंद करने का भी आग्रह किया है.
दरअसल, बीते गुरुवार को दिल्‍ली में बढ़ते प्रदूषण से चिंतित दिल्ली हाईकोर्ट ने तल्‍ख़ टिप्‍पणी करते हुए दिल्ली सरकार से जवाब मांगा था. हाईकोर्ट की इस टिप्‍पणी के तुरंत बाद मुख्यमंत्री केजरीवाल ने आपात बैठक बुलाकर ये फैसले लिए हैं. बताया जाता है कि जब दिल्ली में अमेरिकी दूतावास के मॉनिटरिंग सिस्टम से हवा की शुद्धता को मापा गया तो प्रदूषण का स्तर सहे जा सकने वाले स्तर से 10 से 16 गुना तक ज्यादा पाया गया है.


'वेतन आयोग की सिफारिशें लागू होने से सरकारी खजाने पर सालाना 1.02 लाख करोड़ का अतिरिक्त बोझ पड़ेगा, इसके बावजूद घाटे को सीमित रखने का लक्ष्य सरकार हासिल कर लेगी.'

अरुण जेटली, केन्द्रीय वित्त मंत्री
एक अखबार द्वारा आयोजित कार्यक्रम के दौरान



जगदीश टाइटलर के खिलाफ फिर सीबीआई जांच शुरू होगी
1984 के सिख विरोधी दंगों के मामले में कांग्रेस नेता जगदीश टाइटलर के खिलाफ एक बार फिर सीबीआई जांच शुरू होगी. दिल्ली के कड़कड़डूमा कोर्ट ने टाइटलर को क्लीन चिट देने के खिलाफ दायर की गई याचिका की सुनवाई के बाद यह आदेश दिया है. दंगों की पीडिता लखविंदर कौर ने अपनी इस याचिका में कोर्ट से मांग की थी कि वह सीबीआई को फिर जांच करने को कहे. हालांकि, इस मामले में टाइटलर को तीन बार क्लीन चिट दे चुकी सीबीआई का कहना था कि उसकी जांच में साफ हो चुका है कि टाइटलर की इन दंगों में कोई भूमिका नहीं है. लेकिन 17 नवंबर को सीबीआई ने एक चौंकाने वाला फैसला लेते हुए कोर्ट से कहा कि अगर कोर्ट चाहे तो वह इस मामले की फिर से जांच करने को तैयार है.
कुपवाड़ा में मुठभेड़, दो आतंकी ढेर, एक जवान शहीद
जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा जिले के हंदवाड़ा इलाके में सेना और आतंकियों के बीच हुई मुठभेड़ में एक जवान शहीद हो गया जबकि सेना ने दो आतंकियों को मार गिराया. भारतीय सेना के प्रवक्ता ने बताया कि भारतीय जवान हंदवाड़ा के वाडेरवाला गांव में गश्त कर रहे थे. इसी दौरान वहां छिपे आतंकियों ने जवानों पर गोलियां चलानी शुरू कर दीं. इसके बाद सुरक्षा बलों ने करारा जवाब देते हुए दो आतंकियों को ढेर कर दिया. सेना के प्रवक्ता के अनुसार अभी भी वहां के जंगल में तीन-चार आतंकी छिपे हुए हैं, जिनकी तलाश जारी है. पिछले महीने कुपवाड़ा जिले के इन्हीं जंगलों में आतंकियों के साथ मुठभेड़ में कर्नल संतोष महादिक शहीद हो गए थे.