भले ही मोदी और शरीफ की मुलाकात के बाद भारत और पाकिस्तान के कई नेता आगामी बातचीत को लेकर उत्साहित हों, लेकिन, पाकिस्तान के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज ने साफतौर पर कहा है कि इस आगामी बातचीत से कोई ज्यादा उम्मीद न की जाए. अजीज ने 25 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की संक्षिप्त पाकिस्तान यात्रा के संबंध में संसद में दिए अपने भाषण में यह बात कही है. उन्होंने कहा है कि आगामी वार्ता से कुछ मुद्दों के हल जरूर निकलेंगे लेकिन इससे यथार्थ से परे अपेक्षाएं न रखी जाएं. अजीज ने आगामी वार्ता के कार्यक्रम के बारे में जानकारी देते हुए यह भी कहा कि दोनों देशों के विदेश सचिव 14-15 जनवरी को मुलाकात करेंगे और 10 चिन्हित विषयों पर बातचीत के लिए अगले छह महीनों की एक समय सारिणी भी तैयार करेंगे.
अपने भाषण में सरताज अजीज ने पाकिस्तान में नरेंद्र मोदी के वीजा को लेकर छिड़े विवाद पर भी स्पष्टीकरण दिया. उनके मुताबिक, मोदी और उनके स्टाफ के 11 लोगों को अचानक पाकिस्तान आने से कुछ देर पहले 72 घंटे का वीजा दिया गया था और इस संबंध में जरूरी प्रक्रिया का पूरी तरह से पालन किया गया था. 25 दिसंबर को, अफगानिस्तान से लौटते वक्त नरेंद्र मोदी, अपने पाकिस्तानी समकक्ष नवाज शरीफ की नातिन की शादी में शरीक होने पाकिस्तान चले गए थे. उनके इस दौरे के बाद वहां की विपक्षी पार्टियों के नेता और कुछ पत्रकारों ने उनके वीजा को लेकर सवाल उठाये थे. इनका कहना था कि बिना वीजा के भारतीय प्रधानमंत्री को पाकिस्तान में आने की अनुमति कैसे दे दी गयी.
नेपाल में मधेसियों ने पुलिस स्टेशन पर पेट्रोल बमों से हमला किया, 100 से ज्यादा लोग घायल
नेपाल में सरकार और मधेसियों के बीच जारी गतिरोध एक गृहयुद्ध की शक्ल लेता नजर आ रहा है. मंगलवार को नेपाल के जनकपुर में आंदोलनकारी मधेसियों और पुलिस के बीच हुई हिंसक झडप में 100 से ज्यादा लोग घायल हो गए. दरअसल, बीते शनिवार को मधेसी मोर्चा के बड़े नेता राजेंद्र महतो के काफिले पर पुलिस ने लाठी चार्ज किया था जिसमें वे बुरी तरह घायल हो गए थे. इस घटना के विरोध में मधेसी रविवार से लगातार आंदोलन कर रहे थे. नेपाली मीडिया के मुताबिक आंदोलन कर रहे इन मधेसियों ने मंगलवार शाम अचानक जनकपुर पुलिस स्टेशन पर पथराव शुरू कर दिया. इसके बाद पुलिस ने मधेसियों पर लाठियां बरसाई और आंसू गैस के गोले भी छोड़े. बताया जाता है पुलिस की इस कार्रवाई से मधेसी और हिंसक हो गए और उन्होंने पुलिस स्टेशन को चारों ओर से घेरकर उस पर दो दर्जन से ज्यादा पेट्रोल बमों से हमला कर दिया. जनकपुर के जिलाधिकारी के मुताबिक, इस हमले में 45 पुलिस कर्मी घायल हुए हैं. भारत की सीमा से लगे जनकपुर में पिछले दो सप्ताह में यह दूसरी बड़ी घटना है. इससे पहले मधेसियों ने यहां एक कार्यक्रम में शामिल होने आई नेपाल की राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी के काफिले पर हमला बोल दिया था.
चीन और ताइवान के रिश्तों में सुधार, पहली बार राजनयिकों के बीच बातचीत
पिछले महीने हुई चीन और ताइवान के राष्ट्रपतियों की मुलाकात के सकारात्मक नतीजे सामने आने लगे हैं. इस मुलाकात में दोनों देशों के बीच सीधी टेलीफोन सेवा(हॉट लाइन) स्थापित करने को लेकर जो समझौता हुआ था, वह पूरा हो गया है. हॉटलाइन स्थापित होने के बाद दोनों देशों के राजनयिकों ने बुधवार को पहली बार एक दूसरे से बातचीत की. चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि द्विपक्षीय संबंधों के चीनी प्रभारी ने ताइपे में मौज़ूद अपने ताइवानी समकक्ष से बातचीत कर उन्हें नए साल की शुभकामना देते हुए आपसी संबंधों पर भी चर्चा की.
पिछले महीने 60 साल से भी ज्यादा वक्त के बाद चीन और ताइवान के राष्ट्रपतियों ने सिंगापुर में मुलाक़ात कर सभी को चौंका दिया था. यह 1949 में चीन में गृह युद्ध की समाप्ति के बाद दोनों देशों के नेताओं की पहली मुलाकात थी. दरअसल, गृह युद्ध के बाद से अलग हुए ताइवान की अपनी सरकार है. लेकिन, चीन का मानना है कि ताइवान उसका एक अलग हुआ हिस्सा है जिसे एक-न-एक दिन चीन के साथ मिलना है. उधर, ताइवान के लोग खुद को एक आजाद देश मानते हैं.