फ्रांस की पत्रिका शार्ली एब्दो एक बार फिर अपने विवादित कार्टून के लिए सुर्खियों में है. पिछले साल पत्रिका के दफ्तर पर हुए हमले की पहली बरसी पर पत्रिका ने फिर ऐसा कार्टून छापा है जिस पर नाराजगी जताई जा रही है. इस विशेष अंक में कवर पेज पर जो कार्टून बना है वह कथित रूप से भगवान का बताया जा रहा है. कार्टून में दाढ़ी मूंछ वाला एक बूढ़ा व्यक्ति बना है, जिसकी कमर पर एके 47 बंधी है और कपड़ों पर खून लगा है. यह व्यक्ति भागता हुआ नजर आ रहा है. इस कवर पेज का शीर्षक है-'एक साल बाद, कातिल अब भी फरार है.'
इस अंक के निकलने के बाद मुस्लिम नेताओं के साथ-साथ ईसाई संगठनों ने भी इसकी आलोचना की है. वेटिकन के अखबार ने पोप फ्रांसिस के हवाले से लिखा है कि जिद्दी और झूठी धर्मनिरपेक्षता का झंडा उठाये फ्रांस की यह पत्रिका भूल जाती है कि नफरत को सही ठहराने के लिए भगवान का इस्तेमाल करना सही मायनों में ईशनिंदा है. शार्ली एब्दो ने पहले भी कई बार पैगंबर मोहम्मद के कार्टून प्रकाशित किए थे, जिसके बाद पिछले साल सात जनवरी को इसके दफ्तर पर आतंकी हमला हुआ था. इसमें पत्रिका के संपादक सहित 12 लोगों की मौत हुई थी.
चीन नहीं,अपने पहले विदेश दौरे पर नेपाली पीएम भारत ही आयेंगे
नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली अपने पहले विदेश दौरे पर चीन नहीं भारत ही आएंगे. नेपाली विदेश मंत्री कमल थापा ने बुधवार को बताया कि ओली फरवरी की शुरुआत में भारत का दौरा करेंगे. इसके साथ ही उन खबरों पर विराम लग गया है जिनमें कयास लगाया जा रहा था कि भारत से नाराज ओली अपना पहला दौरा चीन का करने वाले हैं. कमल थापा ने आगे कहा कि इस दौरे पर कई समझौते होंगे लेकिन, सबसे ज्यादा ध्यान इस पर होगा कि कैसे नेपाल के मौजूदा संकट का हल निकाला जाए. नेपाल में जब भी कोई प्रधानमंत्री बनता है तो आम तौर पर वह अपना पहला दौरा भारत का ही करता है. अभी तक इस परंपरा को माओवादी नेता प्रचंड ने ही तोडा है जब वे 2008 में पीएम बनने के बाद बीजिंग ओलंपिक के दौरान चीन गए थे.
हाइड्रोजन बम परीक्षण : अमेरिका, जापान और दक्षिण कोरिया मिलकर उत्तर कोरिया को कड़ा जवाब देंगे
बुधवार को उत्तर कोरिया के द्वारा किये गए हाइड्रोजन बम के परीक्षण से चिंतित अमेरिका, जापान और दक्षिण कोरिया ने उसे जल्द कड़ा जवाब देने का फैसला किया है. अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने इस परीक्षण के बाद उस क्षेत्र की सुरक्षा की स्थिति को लेकर दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति पार्क ग्वेन और जापानी प्रधानमंत्री शिंजो अबे से फोन पर बातचीत की है. व्हाइट हाउस के प्रवक्ता के अनुसार इन तीनों नेताओं ने उत्तर कोरिया के इस लापरवाह आचरण के जवाब में एक संयुक्त और मजबूत प्रतिक्रिया देने को लेकर प्रतिबद्धता जताई है. उधर, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने कहा है कि उत्तर कोरिया ने उसके नियमों का उल्लंघन करते हुए यह परीक्षण किया है. संयुक्त राष्ट्र उत्तर कोरिया पर नई पाबंदियां लगाने पर विचार कर रहा है.