'हां, यह सच है कि लोग मोदी सरकार की नीतियों से खुश नहीं हैं.'

बाबा रामदेव  

पुणे में एक आयोजन के दौरान रामदेव ने कालेधन को लेकर भी मोदी सरकार पर सवाल खड़े किए. उन्होंने कहा कि वह अभी तक कालाधन वापस नहीं ला पाई है और इसके लिए उसे कोई नया रास्ता तलाशना चाहिए. दिल्ली में ऑड-इवन फॉर्मूले के लिए उन्होंने केजरीवाल सरकार की तारीफ भी की.


'पाकिस्तान सरकार ने कहा है कि वह प्रभावी कार्रवाई करेगी और मैं सोचता हूं कि हमें इंतजार करना चाहिए...इतनी जल्दी उनके ऊपर अविश्वास करने का कोई कारण नहीं है.'

राजनाथ सिंह, केंद्रीय गृह मंत्री

राजनाथ सिंह ने उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा में यह बात कही. पठानकोट में हुए आतंकी हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान को सबूत सौंपकर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने को कहा है. उसने साथ ही यह संकेत भी दिया है कि इसी कार्रवाई पर यह निर्भर करेगा कि 15 जनवरी को दोनों देशों के विदेश सचिवों के बीच वार्ता होगी या नहीं.


‘पाकिस्तान कोई छोटा देश नहीं है, इसलिए भारत उस पर सबूतों के आधार पर कार्रवाई का दबाव न बनाए.’

परवेज मुशर्रफ, पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति

पाकिस्तान के पूर्व जनरल ने एक बार मोदी सरकार की नीतियों की आलोचना की है. एक साक्षात्कार में उन्होंने यह भी कहा कि भाजपा सरकार को एक दिन सद्बुद्धि आएगी और वह भारत में पाकिस्तान विरोध और धार्मिक असहिष्णुता के बावजूद पाकिस्तान के साथ बातचीत जारी रखेगी.


‘राजनीतिक या धार्मिक मामलों पर जवाब देने की वजह से दुर्भाग्य से मुझे जो प्रतिक्रिया मिलती है, उसके कारण मुझे नहीं लगता कि मैं इस सवाल का जवाब दूंगा.’ 

शाहरुख खान, फिल्म अभिनेता 

शाहरुख खान की यह प्रतिक्रिया इस सवाल पर आई कि कुछ समय पहले मुंबई में पाकिस्तानी गायक गुलाम अली का कार्यक्रम रद्द किए जाने पर वे क्या सोचते हैं.


‘अगर बट और आसिफ घरेलू क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन करते हैं तो अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने के दूसरे मौके के लिए उनके नाम पर विचार क्यों नहीं किया जाए? तीनों ने एक जैसी गलती की थी और एक जैसी सजा भी मिली तो फिर उनके साथ अलग बर्ताव क्यों किया जाए.’ 

वकार यूनुस, पूर्व खिलाड़ी और पाकिस्तान की राष्ट्रीय क्रिकेट टीम के कोच

वकार यूनुस ने स्पॉट फिक्सिंग मामले में दोषी क्रिकेटरों सलमान बट और मोहम्मद आसिफ की अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी का समर्थन करते हुए कहा है कि उनके साथ मोहम्मद आमिर से अलग बर्ताव नहीं होना चाहिए. उनका यह रुख पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के अध्यक्ष शहरयार खान और राष्ट्रीय टी20 कप्तान शाहिद अफरीदी के रवैये के उलट है.