गणतंत्र दिवस से एक दिन पहले सरकार ने पद्म पुरस्‍कारों का ऐलान कर दिया है. इसके तहत खेल, मनोरंजन और सामाजिक सेवा से जुड़े लोगों को पद्म विभूषण, पद्म भूषण और पद्मश्री के लिए चुना गया है. पिछले दिनों असहिष्णुता के मुद्दे पर सरकार का बचाव करने और सम्मान वापसी के खिलाफ मार्च निकालने वाले बॉलीवुड अभिनेता अनुपम खेर, फिल्म निर्देशक मधुर भंडारकर और लोक गायिका मालिनी अवस्थी को भी पद्म पुरस्‍कार देने की घोषणा की गई है.

सरकार ने इस वर्ष रिलायंस इंडस्ट्रीज़ समूह के संस्थापक धीरूभाई अंबानी सहित कुल 10 हस्तियों को देश के दूसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्मविभूषण से नवाज़े जाने की घोषणा की है. धीरूभाई के साथ-साथ दक्षिण भारत के सुपरस्टार अभिनेता रजनीकांत, 'आर्ट ऑफ लिविंग' के संस्थापक श्री श्री रविशंकर और मीडिया कारोबारी रामोजी राव को भी ये सम्मान दिया जाएगा.

देश का तीसरा सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्मभूषण पाने वाले लोगों में अनुपम खेर, बैडमिंटन खिलाड़ी सायना नेहवाल, सानिया मिर्ज़ा, पार्श्वगायक उदित नारायण तथा पूर्व सीएजी विनोद राय शामिल हैं. इसके अलावा बॉलीवुड अभिनेता अजय देवगन, प्रियंका चोपड़ा, मधुर भंडारकर, सरकारी वकील उज्ज्वल निकम, दिवंगत अभिनेता सईद जाफरी, तीरंदाज दीपिका कुमारी और मालिनी अवस्थी को पद्मश्री दिए जाने वालों की सूची में शामिल किया गया है.

नेताजी सुभाष चंद्र बोस के पौत्र भाजपा में शामिल हुए

नेताजी सुभाष चंद्र बोस के पोते चंद्र कुमार बोस भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए हैं. उन्होंने एक जनसभा के दौरान पार्टी अध्यक्ष अमित शाह की मौजूदगी में भाजपा की सदस्यता ग्रहण की. 55 वर्षीय चंद्र कुमार बोस नेताजी सुभाष चंद्र बोस के बड़े भाई शरत चंद्र बोस के पौत्र हैं. उन्होंने लंदन के हेंडन कॉलेज से अर्थशास्त्र की शिक्षा हासिल की है. वे नेताजी के परिवार और कुछ इतिहासकारों के द्वारा बनाए गए संगठन 'द ओपन प्लेटफॉर्म फॉर नेताजी' के संयोजक हैं. यह संगठन नेताजी से जुड़ी फाइलों को सार्वजनिक कराने को लेकर कई सालों से अभियान चला रहा है. पश्चिम बंगाल में इसी साल विधानसभा चुनाव होने हैं. इन चुनावों के लिए राज्य में भाजपा के पास कोई बड़ा चेहरा नहीं है. ऐसे में चंद्र कुमार बोस उसके लिए अहम साबित हो सकते हैं.

तमिलनाडु में लड़कियों की ख़ुदकुशी के मामले में कॉलेज की अध्यक्ष भी गिरफ्तार

तमिलनाडु में मेडिकल की तीन छात्राओं द्वारा आत्महत्या करने के मामले में कॉलेज की चेयरमेन वासुकी सुब्रमण्यम ने आज कोर्ट में आत्मसमर्पण कर दिया. पुलिस ने उनके बेटे और प्रिंसिपल को रविवार को ही गिरफ़्तार कर लिया था. शनिवार को राज्य के विल्लुपुरुम स्थित एसवीएस योग मेडिकल कॉलेज की तीन छात्राओं ने कॉलेज द्वारा लगातार ज्यादा फ़ीस मांगे जाने पर कुएं में छलांग लगाकर जान दे दी थी. बताया जाता है कि छात्राओं ने यह क़दम कॉलेज प्रबंधन के कृत्यों को उजागर करने के लिए उठाया था. कॉलेज के छात्रों के मुताबिक कॉलेज प्रबंधन हमेशा अपनी मनमानी करते हुए ज्यादा फीस तो लेता ही है साथ ही छात्रों को इस फीस की कोई रसीद भी नहीं दी जाती है.

इस घटना के अगले दिन रविवार को छात्राओं के माता-पिता ने उनका पोस्टमार्टम कराने से इनकार कर दिया था. इसके बाद पुलिस ने कॉलेज प्रबंधन के खिलाफ मामला दर्ज किया था. आत्महत्या करने वाली एक छात्रा के पिता ने मद्रास हाईकोर्ट में याचिका दायर कर मांग की है कि इस मामले की सीआईडी जांच करायी जाए और लड़कियों का पोस्टमार्टम चेन्नई स्थित सरकारी अस्पताल में किया जाए.