जाने-माने पत्रकार और आउटलुक समाचार समूह के संपादकीय अध्यक्ष विनोद मेहता का निधन हो गया है. वे 73 साल के थे और पिछले काफी समय से बीमार चल रहे थे. उनकी मृत्यु उनके शरीर के कई अंदरूनी अंगों के जबाव दे जाने की वजह से दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में हुई. सन् 1995 में आउटलुक की अंग्रेजी पत्रिका शुरू करने से पहले मेहता ने द पायोनियर, द संडे ऑबजर्बर, द इंडिपेंडेंट और द इंडियन पोस्ट जैसे समाचार पत्र-पत्रिकाओं और द डेबोनेयर जैसी महिलाओं की नग्न तस्वीरों वाली पत्रिका का संपादन किया था. इनमें से कइयों के वे संस्थापक भी थे. रावलपिंडी में पैदा हुए विनोद मेहता का परिवार आजादी से पहले ही लखनऊ में आकर बस गया था. विभिन्न पत्र-पत्रिकाओंं की संपादकी के अलावा मेहता ने कई किताबें भी लिखी हैं जिनमें से दो संजय गांधी और मीना कुमारी की जीवनियां हैं और एक 'लकनऊ बॉय' उनकी खुद की. इसके अलावा 2001 में उनके लेखों का एक संग्रह - 'मिस्टर एडीटर हाउ क्लोज आर यू टू द पीएम?' भी किताब की शक्ल में आया था. उनके परिवार में उनके अलावा पत्नी सुमिता और उनका कुत्ता एडीटर ही थे. अपनी किताब लकनऊ बॉय में उन्होंने लिखा है कि इंग्लैंड में पढ़ाई के दौरान उन्हें एक विदेशी लड़की से प्रेम हुआ था जिससे उनकी एक बेटी भी है. लेकिन उन्हें नहीं पता कि वह अब कहां है. विनोद मेहता ने 2012 में अपने स्थापित किए आउटलुक समाचार समूह के एडीटर-इन-चीफ का पद छोड़ दिया था.
अलगाववादी नेता मसरत आलम बट रिहा जम्मू कश्मीर सरकार ने हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के कट्टरवादी धड़े के नेता मसरत आलम बट को जेल से रिहा कर दिया है. वह 2010 में घाटी में आयोजित भारत विरोधी प्रदर्शन और पत्थरबाजी के लिए युवाओं को उकसाने का आरोपी है. इस दौरान प्रदर्शनकारियों और सेना व पुलिस के बीच मुठभेड़ में 112 लोगों की जान चली गई थी.
हुर्रियत कॉन्फ्रेंस में मसरत आलम बट को अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी का उत्तराधिकारी माना जाता है
बट को जनसुरक्षा अधिनियम के अंतर्गत अक्टूबर, 2010 में जेल भेजा गया था. उसकी रिहाई का आदेश राज्य के गृह मंत्रालय द्वारा उसकी हिरासत को अनुमति न दिए जाने के बाद आया है. मीडिया से बात करते हुए मंत्रालय के प्रमुख सचिव सुरेश कुमार का कहना था कि इस साल जनवरी-फरवरी में उसकी फाइल अधिकारियों के सामने आई थी और उन्होंने बट को हिरासत में रखने की अनुमति देने से मना कर दिया.
हुर्रियत कॉन्फ्रेंस में बट को अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी का उत्तराधिकारी माना जाता है. 2010 में उसकी गिरफ्तारी के दो महीने पहले तक भी वह जेल में था. 1990 में उसे पहली बार जन सुरक्षा अधिनियम के तहत जेल भेजा गया था और अब तक वह 15 साल जेल में बिता चुका है.
सईद सरकार के गठन के बाद बट पहला बड़ा अलगाववादी नेता है जिसे रिहा किया गया है. सरकार के इस फैसले पर उसकी सहयोगी पार्टी भाजपा ने विरोध जताया है. राज्य में पार्टी के संगठन महासचिव अशोक कौल का कहना है कि मुख्यमंत्री अकेले ऐसे विषयों पर फैसला नहीं कर सकते और भाजपा इस पर विरोध दर्ज कराएगी.
अजय माकन दिल्ली कांग्रेस समिति के प्रमुख बने यह लगभग पहले से तय था लेकिन आज कांग्रेस ने औपचारिक रूप से घोषणा करके अजय माकन को दिल्ली कांग्रेस प्रदेश कांग्रेस समिति का प्रमुख बना दिया. पार्टी ने विधानसभा चुनाव भी उन्हीं के नेतृत्व में लड़ा था और कहा जा रहा था कि वे जल्दी ही राज्य में पार्टी के सर्वेसर्वा नियुक्त किए जाएंगे.  माकन के साथ-साथ कांग्रेस ने पांच राज्यों में भी प्रदेश कांग्रेस समिति के प्रमुखों की नियुक्ति की है. महाराष्ट्र में अशोक चव्हाण, जम्मू-कश्मीर में गुलाम अहमद मीर, गुजरात में भरत सिंह सोलंकी और उत्तम रेड्डी को तेलंगाना की प्रदेश कांग्रेस का प्रमुख नियुक्त किया गया है. संजय निरूपम को मुंबई क्षेत्रीय कांग्रेस समिति का प्रमुख बनाया गया है. कांग्रेस में इस बदलाव को अगले महीने राहुल गांधी के पार्टी अध्यक्ष बनने की संभावना से जोड़कर देखा जा रहा है.
साइना नेहवाल ऑल इंग्लैंड बैटमिंटन चैंपियनशिप के फाइनल में लंदन ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता साइना नेहवाल प्रतिष्ठित ऑल इग्लैंड बैटमिंटन चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंच गई हैं. शनिवार को उन्होंने चीन की सुन यू को सीधे सेटों में 21-13, 21-13  से हराया. इस जीत के साथ ही साइना इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंचने वाली पहली भारतीय महिला बन गई हैं. इससे पहले वे 2010 और 2013 में टूर्नामेंट के सेमीफाइनल तक पहुंची थीं. विश्व की तीसरे नंबर की खिलाड़ी साइना यदि फाइनल मैच जीतती हैं तो वे प्रकाश पादुकोण (1980) और गोपीचंद (2001) के बाद यह उपलब्धि हासिल करने वाली भारत की तीसरी खिलाड़ी बन जाएंगी.
आज टूर्नामेंट का दूसरा सेमीफाइनल चीन की ताई झू यिंग और स्पेन की कैरोलिना मैरिन के बीच होने जा रहा है. इनमें से जो भी विजेता होगा, साइना को उसके खिलाफ फाइनल खेलना होगा.