नदीम आलम
नदीम आलम
एक शख्स ने खुद को पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेटर बताकर बीबीसी के शो में हिस्सा ले लिया.
देने वाले बड़े-बड़ों को चकमा दे देते हैं. यह बात एक बार फिर साबित हो गई जब एक शख्स खुद को कोई और बताते हुए विशेषज्ञ बनकर बीबीसी की क्रिकेट परिचर्चाओं में शामिल हो गया और इसका मेहनताना भी वसूल गया. नदीम आलम नाम के इस व्यक्ति ने खुद को पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेटर नदीम अब्बासी के रूप में पेश किया था. असली बात पता चलने के बाद बीबीसी ने अब्बासी से माफी मांगी है और मामले की जांच करने की बात कही है.
विकेटकीपर बल्लेबाज नदीम अब्बासी ने 1989 में पाकिस्तान की ओर से तीन टेस्ट खेले थे. इन दिनों वे रावलपिंडी में एक टीम को कोचिंग देते हैं. वे सिर्फ एक बार 1996 में क्रिकेट विश्व कप के दौरान टीवी पर नजर आए थे. उधर, नदीम आलम सिर्फ अपने कस्बे हडर्सफील्ड के लिए क्रिकेट खेला है जो इंग्लैंड के यॉर्कशायर में है.
असली बात पता चलने के बाद बीबीसी ने अब्बासी से माफी मांगते हुए मामले की जांच करने की बात कही है.
जाहिर है अब्बासी इससे नाराज हैं. उनका तर्क है कि इतनी बड़ी संस्था होने के नाते बीबीसी को तथ्यों की जांच करनी चाहिए थी. खबरों के मुताबिक उनका कहना है कि अगर उन्हें कभी नदीम आलम मिला तो वे देश की छवि को नुकसान पहुंचाने के लिए उसके मुंह पर घूंसा जड़ देंगे.
उधर, बीबीसी ने इस चूक पर खेद जताया है. बीबीसी प्रवक्ता ने कहा कि वे असली अब्बासी से माफी मांगते हैं. उनका यह भी कहना था कि जो हुआ उस पर वे गंभीरता से गौर कर रहे हैं. बीबीसी वर्ल्ड न्यूज, बीबीसी एशिया नेटवर्क और रेडियो फाइव लाइव पर प्रसारित हुई चर्चाओं में नदीम आलम के साथ पूर्व भारतीय बल्लेबाज आकाश चोपड़ा भी थे.
कुछ समय से बीबीसी का नाम लगातार सुर्खियों में रहा है. 11 मार्च को ही इस समाचार संस्था ने अपने चर्चित कार्यक्रम टॉप गियर के प्रजेंटर जेरेमी क्लार्कसन को निलंबित कर दिया था. क्लार्कसन पर एक प्रोड्यूसर को घूंसा मारने का आरोप है. भारतीयों पर नस्लभेदी टिप्पणी करने को लेकर भी जेरेमी कुछ समय पहले आलोचना का शिकार हुए थे. बीते दिनों निर्भया मामले पर बनी बीबीसी की डॉक्यूमेंटरी इंडियाज डॉटर भी खासा विवाद हुआ.