सीआईए को ओसामा बिन लादेन के ठिकाने की जानकारी पाकिस्तान के एक पूर्व खुफिया अधिकारी ने दी थी. पाकिस्तानी अखबार द डॉन ने अमेरिकी खोजी पत्रकार और लेखक सीमॉर् एम हर्श के हवाले से यह जानकारी दी है. हर्श के मुताबिक इस अधिकारी ने यह जानकारी अल-कायदा प्रमुख लादेन के सिर पर रखे गए 2.5 करोड़ डॉलर यानी करीब 150 करोड़ रु के इनाम के एवज में दी थी. यह अधिकारी अब वाशिंगटन में सीआईए के सलाहकार के रूप में काम कर रहा है. अमेरिकी सैनिकों ने ओसामा बिन लादेन को एबटाबाद में दो मई, 2011 की रात मार गिराया था.
अमेरिका कहता रहा है कि पाकिस्तानी सेना को इस अभियान की भनक भी नहीं थी.
उधर, अमेरिका ने हर्श के इस दावे को बेबुनियाद बताया है. व्हाइट हाउस के प्रवक्ता नेड प्राइस का बयान आया है कि राष्ट्रपति ओबामा ने पहले ही ये निर्णय कर लिया था कि किसी और देश को इसकी जानकारी नहीं दी जाएगी और पाकिस्तानी हुकूमत को भी इसकी कोई जानकारी नहीं दी गई थी. हर्श ने द डॉन को दिए साक्षात्कार में कहा है पाकिस्तान को इस ऑपरेशन के बारे में पता था. गौरतलब है कि अमेरिकी सरकार इस अभियान का पूरा श्रेय अभी तक खुद ही लेती रही है. अमेरिका कहता रहा है कि तत्कालीन पाकिस्तानी सेना प्रमुख और आईएसआई के मुखिया दोनों को इसकी भनक भी नहीं थी. हर्श के मुताबिक यह दावा पूरी तरह झूठा है और अमेरिका के द्वारा सुनाई गयी कहानी काल्पनिक है. पाकिस्तान को न केवल इसका पता था बल्कि वह यह भी चाहता था कि ओसामा को मारने के एक सप्ताह बाद ही उसकी मौत की घोषणा की जाए. वह यह भी चाहता था कि ओसामा को हिंदकुश के पहाड़ों पर मिला दिखाया जाए ताकि अंतरराष्ट्रीय समुदाय उस पर किसी तरह के आरोप नहीं लगा सके. लेकिन, हर्श के अनुसार ओबामा ने आने वाले राष्ट्रपति चुनाव को ध्यान में रखते हुए पाकिस्तान से किया अपना वादा नहीं निभाया.
ब्रिटेन में भारतीय मूल की प्रीति पटेल मंत्री बनीं
ब्रिटेन में भारतीय मूल की प्रीति पटेल को रोजगार मंत्री बनाया गया है. इसकी घोषणा खुद प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने की. 29 मार्च 1972 को लंदन में जन्मी प्रीति पटेल कैमरन की कैबिनेट में शामिल एकमात्र भारतवंशी हैं. उनके माता-पिता गुजराती मूल के हैं जो 1960 के दशक में युगांडा से ब्रिटेन आये थे. प्रीति ने आम चुनाव में कंजरवेटिव पार्टी की ओर से टीवी प्रचार की जिम्मेदारी संभाली थी जिसकी वजह से वे चुनाव के दौरान काफी चर्चा में रही थीं. वे पूर्व रोजगार मंत्री एस्थर मेकवे की जगह लेंगी जो इस बार चुनाव हार गई थीं. सत्तारूढ़ कंजरवेटिव पार्टी में भारतीय मूल की बड़ी नेता प्रीति को भारतीय प्रवासियों का हितैषी माना जाता है. उन्होंने लगातार दूसरी बार एसेक्स काउंटी की विथम सीट से चुनाव जीता है. प्रीति कैमरन की पिछली सरकार में एक निचले स्तर की मंत्री - एक्सचेकर सेक्रेटरी टू द ट्रेज़री - थीं.
स्‍वीडन के सुप्रीम कोर्ट का जूलियन असांजे की गिरफ्तारी पर रोक से इंकार
स्वीडन के सुप्रीम कोर्ट ने विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांजे की गिरफ्तारी पर रोक लगाने से इंकार कर दिया है. शीर्ष अदालत ने वारंट खारिज करने की उनकी याचिका यह कहते हुए ठुकरा दी कि इसकी कोई वजह नहीं है. जूलियन असांजे पर 2010 में दो स्वीडिश महिलाओं ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था. इसके बाद उनके खिलाफ वारंट जारी किया गया था. असांजे इन आरोपों को बेबुनियाद बताते रहे हैं. स्वीडन प्रत्यर्पण किए जाने से बचने के लिए उन्होंने वर्ष 2012 से लंदन स्थित इक्वाडोर के दूतावास में शरण ले रखी है. इसी साल मार्च में स्वीडिश अभियोजकों ने इस मामले में उनसे लंदन स्थित दूतावास में ही पूछताछ का प्रस्ताव दिया था. इस प्रस्ताव पर असांजे ने पिछले महीने सहमति जताई थी.
संकलन : अभय शर्मा