भारतीय जनता पार्टी के संसदीय दल की बैठक में उप राष्ट्रपति पद के लिए एनडीए उम्मीदवार के रूप में वेंकैया नायडू के नाम पर मुहर लग गई है. आज की बैठक में उनके नाम का प्रस्ताव केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जयप्रकाश नड्डा ने किया. माना जा रहा है कि उन्हें उम्मीदवार बनाकर भाजपा ने दक्षिण भारत के मतदाताओं को साधने की कोशिश की है जहां उसका आधार बाकी जगहों के मुकाबले कमजोर है.

वेंकैया नायडू अभी केंद्रीय शहरी विकास मंत्री हैं. वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करीबी माने जाते हैं. 2002 से 2004 तक वे भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी रहे हैं. उनका राजनीतिक करियर छात्र नेता के रूप में शुरू हुआ था. 1974 में वे आंध्र विश्वविद्यालय के छात्र संघ के अध्यक्ष बने थे. जयप्रकाश आंदोलन में भी उन्होंने सक्रिय भूमिका निभाई.

एक जुलाई, 1949 को आंध्र प्रदेश के नेल्लोर जिले में पैदा हुए वेंकैया नायडू ने वहीं से अपनी स्कूली शिक्षा पूरी की. बाद में उन्होंने वीआर कॉलेज से राजनीति विज्ञान में बीए किया. उन्होंने विशाखापत्तनम के आंध्र विश्वविद्यालय से कानून की डिग्री भी हासिल की. वहीं वे छात्र संघ के अध्यक्ष बने. पूरे आसार हैं कि वे इस पद के लिए विपक्ष के उम्मीदवार और महात्मा गांधी के पोते गोपालकृष्ण गांधी को हराने में कामयाब रहेंगे.